Breaking News
  • आज मनाया जा रहा है विश्व मातृभाषा दिवस, इस साल का थीम है 'सतत विकास के लिए भाषाई विविधता और बहुभाषावाद की संख्या'
  • लखनऊ से बिजनोर लौट रहे नूरपुर से भाजपा विधायक Lokender Singh का सड़क हादसे में निधन, दो की मौत
  • लखनऊ: प्रधानमंत्री मोदी द्वारा निवेशकों के शिखर सम्मेलन का उद्घाटन
  • मुख्य सचिव के साथ बदसलूकी के आरोप में AAP विधायक प्रकाश जरवाल गिरफ्तार
  • PNB घोटाला: जीएम रैंक के अधिकारी Rajesh Jindal गिरफ्तार, 2009 से 2011 के बीच थे शाखा के प्रमुख

मुस्लिम नेता पर लगा मस्जिद जाने पर प्रतिबंध, BJP में जाने की चुका रहा है कीमत!

अगरतला: त्रिपुरा में विधानसभा चुनाव का माहौल बना हुआ है। ऐसे में एक नया विवाद जो इस समय सुर्खियाँ बन गया है। त्रिपुरा के एक गाँव में मुस्लिम समुदाय ने अपने ही नेता को मस्जिद में नमाज अदा करने से मना कर दिया है। समुदाय का आरोप है कि मुस्लिम नेता ने बीजेपी ज्वाइन की है।

बतादें कि एक अखबार की रिपोर्ट के हवाले से बताया जा रहा है कि दक्षिण त्रिपुरा के शांतिबाजार विधानसभा क्षेत्र के गाँव मोइदातिला में एक मुस्लिम नेता का उसके ही समाज द्वारा बहिष्कार कर दिया है। बहिष्कार किये जाने की वजह बेहद ही हैरान करने वाली है। समुदाय का आरोप है कि बाबुल हुसैन ने करीब 16 माह पूर्व बीजेपी में शामिल हो गये थे। जिसके बाद से गाँव के अधिकतर मुस्लिम परिवारों ने उनका बहिष्कार करते हुए उन्हें मस्जिद में नमाज पढने से मना कर दिया।

ये गाना बना सकता है आपके वेलेंटाइन डे को और भी खास !

कहा जा रहा है कि मुस्लिम नेता ने हिन्दुवादी पार्टी का समर्थन किया है जिस कारण उनके खिलाफ़ गाँव के लोग एकजुट हुए हैं। मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार इस गांव कम ही आबादी है। इसमें 83 मुस्लिम परिवार हैं। जिसमें से 23 परिवारों ने बीजेपी को समर्थन दिया है। जिसके बाद से सभी 23 परिवारों के लोगों को मस्जिद जाने पर रोका जा रहा है। यह सभी लोग अपने द्वारा बनाई गयी (टीनशेड) की दूसरी मस्जिद में नमाज अदा करते हैं। वहीँ इस को लेकर गांव में तनाव की स्थिति बन गयी है।

केरल: शिपयार्ड में बड़ा ब्लास्ट, 5 की मौत 13 घायल

बीजेपी में शामिल होने वाले बाबुल हुसैन की ओर से कहा जा रहा है कि बीजेपी में शामिल होने के बाद से गाँव के लोग उनके खिलाफ तरह तरह के फतवे जारी कर रहे हैं। कहा जा रहा है कि उन्होंने हिंदूवादी पार्टी को समर्थन किया है इसलिए उन्हें (हिंदुओं) के साथ ही जाना होगा। वहीँ इस मामले में अभी किसी तरह की पुलिस कार्रवाई नहीं की गयी है। ज्ञात हो कि राज्य में इसी माह 18 फरवरी को मतदान होने हैं। यहाँ मुख्यता बीजेपी और कम्युनिष्ट पार्टी में मुकाबला माना जा रहा है।  

यह भी देखें- 

loading...