Breaking News
  • सोनभद्र जाने पर अड़ी प्रियंका गांधी, धरने का दूसरा दिन
  • असम और बिहार में बाढ़ से 150 लोगों की गई जान, 1 करोड़ से अधिक लोग प्रभावित
  • इलाहाबाद हाइकोर्ट ने पीएम मोदी को जारी किया नोटिस, 21 अगस्त को सुनवाई
  • कर्नाटक पर फैसले के लिए अब सोमवार का इंतजार

क्या तकनीक की मार झेल रहा AN 32, अभी तक पहुंच से बाहर

नई दिल्ली : भारत जहां आधुनिक विमान लेने के लिए विभिन्न देशों के साथ करार पर करार कर रहा है, वहीं भारत अपने पुराने विमानों का सहीं से देख रेख भी नहीं कर पा रहा है। जिसकी भेट शायद भारत का एयरक्राफ्ट विमान AN 32 चढ़ गया। जो अभी तक पहुंच से बाहर है। इस विमान के गायब हुए 42 घंटे से भी ऊपर हो चुके है। लेकिन अभी तक इसके बारे में कोई सुराग नहीं मिला है। इस विमान में 8 क्रू मेंम्बर समेत 5 यात्री भी सवार थे।

आपको बता दें कि आज से तीन साल पहले यानी 2016 में भी इसी समूह का एक विमान एएन-32 बंगाल की खाड़ी के पास लापता हो गया था। जिसकी खोज तो की गई लेकिन अफसोस कि उसका मलबा तक भी नहीं मिल सका । वहीं हाल इस विमान का भी है। अगर सूत्रों की मानें तो यह विमान चाइनीज बोर्डर में प्रवेश कर गया है, हालांकि चाइना के तरफ से अभी तक इस बारे में कुछ नहीं गया है। इस विमान की बात करें तो यह विमान न तो मॉडर्न एवियोनिक्स और न रडार या आपातकालीन लोकेटर ट्रांसमटर (ईएलटी) जैसे सुविधाओं से लैस है। जिससे इसके वर्तमान स्थिति का पत चल सका।

जहां रहीं बात इस विमान के अंतिम लोकेशन की तो इसका आखिरी लोकेशन अरुणाचल प्रदेश के पश्चिम सियांग जिले में चीनी सीमा के करीब मिला था। एएन 32 विमान को खोजने के लिए सैटेलाइट, स्पाई एयरक्राफ्ट, फायटर प्लेन, हेलिकॉप्टर और सेना के जवानों का सहारा लिया जा रहा है। वहीं भारतीय वायु सेना के सी-130, एएन-32 विमान, भारतीय वायुसेना के दो एमआई-17 और भारतीय सेना के एएलएच हेलीकॉप्टरों को लगाया गया। नासा भी अपने उपग्रहों के जरिए इस सर्च ऑपरेशन में जुटे बचावकर्ता की मदद कर रहा है। जिससे इस विमान को जल्द से जल्द खोज निकाला जा सकें। हालांकि खराब मौसम के कारण सर्च ऑपरेशन अभी बाधित है।

अरुणाचल प्रदेश के गृह मंत्री बमांग फेलिक्स ने बताय कि हमने पांच जिलों के नागरिक और पुलिस प्रशासन को इस सर्च ऑपरेशन में लगाया है। साथ ही हमने स्थानीय लोगों से भी अभियान में प्रशासन से जुड़ने की अपील की है। जिस क्षेत्र में विमान के लापता होने की आशंका है, वह घने जंगलों और दुर्गम है। मौसम भी खराब है, लेकिन हमें कुछ खबरें मिलने की उम्मीद है।

वहीं नौसेना के प्रवक्ता कैप्टन डीके शर्मा ने बताया कि तमिलनाडु के अराकोनम में तैनात आईएनएस राजाली से दोपहर करीब एक बजे पी-8आई विमानों ने उड़ान भरी। यह एएन-32 की तलाश कर रहे हैं। पी-8आई एयरक्राफ्ट इलेक्ट्रो ऑप्टिकल और इन्फ्रारेड सेंसर्स से लैस है। इस विमान में बेहद शक्तिशाली सिंथेटिक अपर्चर राडार (एसएआर) लगे हुए हैं।

loading...