Breaking News
  • सोनभद्र जमीन मामले में अब तक 26 आरोपी गिरफ्तार, प्रियंका करेंगी मुलाकात
  • वेस्टइंडीज दौरे के लिए रविवार को 11:30 बजे होगा टीम इंडिया का चयन
  • बिहार : बाढ़ से अब तक 83 लोगों की मौत
  • कर्नाटक में आज दोपहर डेढ़ बजे तक सरकार को साबित करना होगा बहुमत

फिर सिनियर के रहते जुनियर बना बॉस, मिलिए नौसेना के नए प्रमुख करमबीर सिंह से...

नई दिल्ली: सरकार ने एक बार फिर थल सेना की तरह नौसेना में भी सीनियर के रहते जूनियर अफसर को प्रमुख बनाया है। जी हां, जिस तरह जनरल बिपिन रावत को जनरल दलबीर सिंह सुहाग की जगह नियुक्त किया गया था। वहीं अब नौसेना प्रमुख सुनील लांबा की जगह वाइस एडमिरल करमबीर सिंह को नौसेना का नया प्रमुख बनाया गया है।

दरअसल, पूर्व नौसेना प्रमुख सुनील लांबा 31 मई यानी शुक्रवार को रिटायर हो रहे हैं। वहीं नौसेना के नए प्रमुख वाइस एडमिरल करमबीर सिंह ने अपना पदभार संभाल लिया है। पद संभाल के बाद करमबीर सिंह ने कहा कि मेरे पूर्ववर्तियों ने सुनिश्चित किया कि नौसेना के पास एक ठोस आधार है और नई ऊंचाइयों पर पहुंच गया है। उन्होंने कहा कि मेरा प्रयास रहेगा कि मैं उनके प्रयासों को जारी रखूं और राष्ट्र को ऐसी नौसेना प्रदान करूं, जो मजबूत, विश्वसनीय और समुद्री क्षेत्र में सुरक्षा चुनौती का सामना करने में सक्षम हो।

हालांकि, इस नियुक्ति में एक बड़ा विवाद है कि वाइस एडमिरल बिमल वर्मा ने वाइस एडमिरल करमबीर सिंह को अगला नौसेना प्रमुख बनाए जाने के खिलाफ आर्म्स फोर्सेस ट्राइब्यूनल में याचिका दायर की थी। वर्मा का आरोप है कि अगले नौसेना प्रमुख की नियुक्ति के वक्त उनकी वरिष्ठता को अनदेखा किया गया है। हालांकि इसके बाद भी विवादों के बीच 29 मई को ट्रिब्यूनल ने सिंह को नौसेना प्रमुख बनाने की अनुमति दे दी थी।

बता दें कि एडमिरल बिमल वर्मा और करमबीर सिंह से छह महीने वरिष्ठ हैं। सिंह ने जुलाई 1980 में, जबकि वर्मा ने जनवरी 1980 में नौसेना ज्वाइन की है। इससे पहले शनिवार को रक्षा मंत्रालय ने वाइस एडमिरल बिमल वर्मा की वैधानिक याचिका खारिज करते हुए साफ किया कि सिर्फ वरिष्ठता के आधार पर ही किसी को प्रमुख नहीं बनाया जा सकता है,बल्कि इसके लिए अन्य पैमाने भी होते हैं।

loading...