Breaking News
  • अयोध्या मामले में 2 अगस्त से खुली कोर्ट में सुनवाई, 31 जुलाई तक मध्यस्थता की प्रक्रिया
  • महाराष्ट्र में गोरखपुर अंत्योदय एक्सप्रेस पटरी से उतरी
  • अमरनाथ यात्रा पर आतंकी कर सकते हैं आतंकी हमला : सूत्र
  • कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार का शक्ति परीक्षण, 2 बसों में विधानसभा पहुंचे BJP विधायक

बड़ी खबर: 18 महीने में शुरू होगा अयोध्या में राम मंदिर निर्माण

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव में भाजपा को मिली प्रचंड बहुमत के बाद अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का मसला नये सिरे से चर्चा में है। एक ओर संत समाज से मंदिर निर्माण में देरी बर्दाश्त नहीं तो अंदर ही अंदर आरएसएस और बीजेपी नेता भी राम मंदिर निर्माण का पताका लहरा रहे हैं। इस बीच अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए अभियान में सबसे आगे रहे विश्व हिंदू परिषद इस मुद्दे पर चर्चा के लिए इस महीने के आखिर में अपने शीर्ष नेताओं की बैठक बुलाई है।

विहिप का दावा है कि इस परियोजना पर डेढ़ साल में काम शुरू हो जाएगा। संगठन के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने साफ किया है कि उनका संगठन राम मंदिर निर्माण पर 'अनिश्चितकाल तक' इंतजार नहीं कर सकता और संगठन ने राजग सरकार के दूसरे कार्यकाल के पहले महीने के भीतर ही नरेंद्र मोदी सरकार को उनके वादे के बारे में 'याद दिलाने' का फैसला किया है।

उन्हों कहा कि यह स्पष्ट है कि विहिप दो मुद्दों पर समझौता नहीं करेगी - पहला, भगवान राम के जन्मस्थान पर सिर्फ मंदिर बनेगा और दूसरा, अयोध्या की सांस्कृतिक सीमाओं के भीतर कोई मस्जिद नहीं हो सकती। कुमार ने कहा कि विहिप की 'मार्गदर्शक समिति' इस मुद्दे पर चर्चा करने के लिए 19-20 जून को हरिद्वार में बैठक करेगी और एक प्रस्ताव पारित करेगी जो प्रधानमंत्री मोदी को सौंपा जाएगा।

विहिप के अनुसार, इस मसले पर हम एक प्रस्ताव पारित करेंगे और इसे प्रधानमंत्री को देंगे। हम उन्हें यह याद दिलाएंगे कि आपके घोषणा पत्र में राम मंदिर निर्माण का वादा किया गया है। बता दें कि बीजेपी और आरएसएस राम मंदिर निर्माण का समर्थन करती रही है। इसी अहम मुद्दे के सहारे भाजापा को साल 2014 में प्रचंड जनसमर्थन मिला था। हालांकि संतों और विहिप का आरोप है कि पांच साल की मोदी सरकार ने राम मंदिर पर कोई पहल नहीं की। 

loading...