Breaking News
  • बाढ़ और चक्रवात के खतरे में आने वाले ज़िलों में स्वंयसेवकों के प्रशिक्षण के लिए भी 'आपदा मित्र' नाम की पहल की गई है: पीएम
  • पीएम मोदी ने वैज्ञानिकों से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की तकनीक को उपयोगी बनाने का आग्रह किया
  • विदेश सचिव विजय गोखले ने की चीन के वित्त मंत्री से मुलाकात, द्विपक्षीय एजेंडे पर हुई चर्चा
  • मन की बात कार्यक्रम के 41वें संस्करण में बोले पीएम मोदी
  • 54 साल की उम्र में बॉलीवुड एक्ट्रेस श्रीदेवी का निधन
  • भारत की Aruna Reddy ने मेलबर्न Gymnastics World Cup में कांस्य पदक जिता

मोदी के कारण इन लोगों के स्वाहा हुए 5 लाख करोड़

नई दिल्ली: गुरुवार को केंद्र सरकार द्वारा पेश किये गये बजट के बाद से शेयर बाजार की हालत खस्ता  हो गयी है। नरेन्द्र मोदी सरकार द्वारा दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ की योजनाओं पर लगाए गये कर के कारण लगातार सेंसेक्स नीचे गिर रहा है। गुरुवार और शुक्रवार की गिरावट ने निवेशकों के 4.7 लाख करोड़ स्वाहा हो गये हैं।  

बतादें कि मोदी सरकार द्वारा आम बजट में दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ की योजनाओं पर टैक्स लगा देने से शेयर बाजार में बड़ी गिरावट देखने को मिल रही है। बजट के बाद शेयर बाजार ने जनवरी महीने में जो रफ्तार पकड़ी थी, वह एकाएक नीचे आ गयी है। सेंसेक्स साल 2017 के सबसे निचले अंक पर आ गया है। बजट में सरकार द्वारा दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ पर टैक्स लागने के बाद शुक्रवार को भी शेयर बाजार में सेंसेक्स 839.91 अंक लुढक़र 35066.75 पर आ गया।

अमेरिका ने पाकिस्तान से कहा, तुम मेरे मित्र नहीं हो सकते...!

वहीं निफ्टी 256.30 अंक लुढक़र 10,760.60 अंक पर बंद हुआ। गुरुवार को सरकार द्वारा बजट पेश किये जाने के तुरंत बाद ही सेंसेक्स 450 अंक के करीब नीचे आ गिरा था। शुक्रवार को भी यही हालात रहे। सरकार द्वारा दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ पर टैक्स लगने से निवेशकों का सेंटीमेंट कमजोर हुआ है। इसकी वजह से हैवीवेट शेयरों में बिकवाली बढ़ गई है और बाजार धड़ाम हो गया। शुक्रवार को सेंसेक्स जहां 840 अंकों की गिरावट के साथ बंद हुआ। वहीं, निफ्टी भी 256 अंकों की भारी गिरावट के साथ बंद हुआ।

अब दिल्ली के स्कूल में भी छात्र की मौत- 9वीं में पढ़ता था...

बजट के बाद आई गिरवाट से निवेशकों के चेहरे उतर गये हैं। आकड़ों के अनुसार गिरावट से निवेशकों का करीब 4.7 लाख करोड़ रुपया स्वाहा हो गया है। वहीँ इससे पूर्व साल 2017 के बाद पहली बार शेयर मार्केट में इतनी गिरावट दर्ज की की गयी है। गुरुवार को केंद्र की नरेन्द्र मोदी सरकार ने अपनी सरकार का आखिरी और पूर्ण बजट पेश किया था। इस बजट में आम जनता को कोई राहत नहीं दी गयी वहीँ दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ पर टैक्स और बढ़ा दिया।

loading...