Breaking News
  • INX मीडिया केस: पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम CBI में पेशी
  • वाराणसी: BHU के अस्पताल में भी मरीजों के साथ लापरवाही
  • पूर्व रेल मंत्री और कांग्रेस नेता पवन बंसल के बेटे के ठिकानों पर आयकर ने छापेमारी की
  • यूपी: एक और रेल हादसा- इंजन सहित कैफियत एक्सप्रेस के 10 डिब्बे पटरी से उतरे

भारत लौटना चाहता था डॉन दाऊद इब्राहिम!

नई दिल्ली: भारत की जनता और सरकार को परेशान कर देने वाले अंडर वर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम को लेकर खबर है कि वह भारत लौट सकता है, लेकिन इसके लिए सरकार को उसकी पुरानी शर्तों को मानना होगा। खबरों के अनुसार दाऊद ने शर्त रखा था कि उसे मुंबई के ऑर्थर रोड जेल में नही कैद किया जाए।

दरअसल मीडिया रिपोर्टों में दाऊद इब्राहिम के वकील श्याम केसवानी के हवाले से बताया जा रहा है कि उन्होनें दावा किया कि दाऊद अपनी पुरानी शर्तों पर भारत आने को तैयार हो सकता है, लेकिन इसके लिए पहले दाऊद से बात करनी होगी।

केसवानी के अनुसार 5 साल पहले दाऊद ने शर्त रखा था कि उसे ऑर्थर रोड जेल में नहीं रखा जाए, लेकिन उस समय की मनमोहन सरकार ने इस मामले पर गंभीर नहीं दिखी और मामला हाथ से निकल गया। उन्होंने बताया कि दाऊद के कुछ लोग लंदन में राम जेठमलानी से मुलाकात की थी, इस दौरान ऐसी शर्तें रखी गई थी।

उन्होंने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि भारत सरकार ने अबू सलेम और छोटा राजन के शर्तों को मानते हुए भारत ले आईं, लेकिन सरकार ने दाऊद के इस छोटी सी शर्त को भी मानने से इनकार कर दिया।

हालांकि दाऊद के वकिल ने फिलहाल दाऊद को भारत आने के सवाल पर कहा कि इस मामले पर दाऊद से बीना बात किए कुछ नहीं कहा जा सकता है। खबरों के अनुसार ऑर्थर रोड जेल में दाऊद को अपनी जान का खतरा है, इसी कारण उसने यह शर्त रखी है।

इसके अलावा डॉन अपनी सुरक्षा की पूरी गारंटी सरकार से चाहता है। वकिल के अनुसार अगर दाऊद के इन शर्तों के भारत सरकार मान लेती है तो वह भारत आ सकता है। 

loading...