Breaking News
  • तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के प्रमुख के.चंद्रशेखर राव दूसरी बार बने मुख्यमंत्री
  • बीजेपी की संसदीय दल की बैठक, पीएम मोदी भी शामिल
  • जम्मू-कश्मीरः सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच बारामुला में मुठभेड़, दो आतंकी ढेर
  • संसद पर हुए आतंकी हमले की 17वीं बरसी, शहीदों को दी जा रही है श्रद्धांजलि

शर्मनाक : कांग्रेस के इस मंत्री ने दबाई थी महिला पत्रकार की छाती, और कहा...

नई दिल्ली : बीजेपी के बाद अब कांग्रेस के भी कई नेता बहुत ही जल्द #MeToo की चपेट में आने वाले है। अभी कुछ दिनों पहले ही कांग्रेस ने एनएसयूआई के राष्ट्रीय अध्यक्ष हटाया था लेकिन अब एक बार फिर एक और वरिष्ठ कांग्रेसी नेता पर यौन शोषण का मामला सामने आया है। एक महिला पत्रकार ने यूपीए सरकार में मंत्री रहे कांग्रेस नेता के खिलाफ यौन शोषण का आरोप लगाते हुए अपनी कहानी बयां की है।

पीएम मोदी के इस करीबी को नीतीश ने बनाया हमसफर, दिया ये अहम पद

सोनल केलॉग नाम की महिला पत्रकार ने यूपीए-I की सरकार के दौरान मंत्री रहे इस नेता का नाम लिए बिना बताया है कि महिला पत्रकारों को किस तरह के हालातों से गुजरना पड़ता है जब वो बाहर रिपोर्टिंग के लिए जाती हैं। अहमदाबाद की रहने वाली केलॉग को गुजरात में अंग्रेजी अखबार द एशियन एज बंद होने के बाद साल 2006 में दिल्ली आना पड़ा। जहां उन्हें एक केंद्रीय मंत्री को कवर करने की जिम्मदारी सौंपी गई जो मीडिया पसंदीदा चेहरा थे और पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई के लिए इंगलैंड जाने से पहले दिल्ली के प्रतिष्ठित सेंट स्टीफेंस कॉलेज में पढ़े थे।

444 साल बाद एक बार फिर इलाहाबाद बना प्रयागराज, जानिए कुछ रोचक किस्से

केलॉग ने बताया कि मंत्री हमेशा उन्हें चूमकर अभिवादन किया करते थे, जिसे लेकर केलॉग का सोचना था कि हो सकता है ये दिल्ली की संस्कृति हो। गुजरात से आने वाली केलॉग बताती हैं कि वहां के नेता किसी महिला पत्रकार का अभिवादन गले लगाकर और चूम कर नहीं करते थे। लेकिन वे (मंत्री) चेहरा पकड़कर चूमने की कोशिश करते थे। केलॉग बताती है कि उनके साथ मंत्री के व्यवहार में बस यही गलत नहीं था। साल 2014 में जब उनके सरकारी बंगले पर मिलीं और उनसे बात कर रहीं थी, तभी उन्होंने वॉशरूम जाते समय अपने हाथ बढ़ाए और छाती दबाई।

कांग्रेस विधायक अल्पेश ठाकोर के सिर कलम करने पर इस ब्रिगेड ने रखा 1 करोड़ का इनाम

केलॉग ने मंत्री से कहा कि उन्हें न छुएं। इस पर मंत्री ने बड़ी बेपरवाही से पूछा-क्यों? केलॉग का कहना है कि इस घटना के बाद वो उनसे नहीं मिलीं। इस तरह के बर्ताव को लेकर उनके अनुभव को लेकर उन्होंने मंत्री के बारे सार्वजनिक तौर पर नहीं बोला। हालांकि #MeToo अभियान ने जब सोशल मीडिया को अपने चपेट में ले लिया तब वो दोबारा सोचने पर मजबूर हुईं और उन्होंने अपनी चुप्पी तोड़ी। आपको बता दे कि एमजे अकबर भी कांग्रेस के नेता रह चुके है।

नाबालिग लड़के ने किया संबंध बनाने से इंकार तो महिला ने जबरदस्ति घुसेड़ा...

loading...