Breaking News
  • सोनभद्र जमीन मामले में अब तक 26 आरोपी गिरफ्तार, प्रियंका करेंगी मुलाकात
  • वेस्टइंडीज दौरे के लिए रविवार को 11:30 बजे होगा टीम इंडिया का चयन
  • बिहार : बाढ़ से अब तक 83 लोगों की मौत
  • कर्नाटक में आज दोपहर डेढ़ बजे तक सरकार को साबित करना होगा बहुमत

अपने कद को कम होता देखा राजनाथ ने उठाया ये बड़ा कदम

लोकसभा चुनाव में मिली प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में लौटी मोदी सरकार पूरे फॉर्म में दिख रही है। देश का काया-कल्प करने के इरादे से सरकार ने हाल ही में दो नई कैबिनेट कमेटियों का गठन किया है। लेकिन सूत्रों के हवाले से खबर है कि सरकार का उक्त फैसला संगठन पर भारी पड़ रहा है। सरकार के इस फैसले से पार्टी के वरिष्ठ नेता नाराज चल रहे हैं। जिसके बाद सरकार को अपने फैसले में बदलाव करना पड़ा है।

ऐतिहासिक बहुमत के साथ सत्ता में लौटी मोदी सरकार पर गृह मंत्री अमित शाह का दबदबा साफ दिख रहा है। कैबिनेट की नवगठित सभी आठ समितियों में अमित शाह गृह मंत्री के हैसियत से शामिल हैं। जबकि वरिष्ठ नेता व रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को सिर्फ दो कमेटियों में ही शामिल किया गया था। सरकार का फैसला इस ओर संकेत देता है कि मोदी की नई सरकार में राजनाथ की ताकत कम करने की कोशिश की जा रही है।

सूत्रों की माने तो सिर्फ दो कमेटियों में शामिल किए जाने से नाराज चल रहे राजनाथ ने इस्तीफे तक की पेशकश कर दी थी। जिससे घबराई सरकार ने 8 कैबिनेट कमेटियों में से छह में राजनाथ को शामिल करने का फैसले किया है। बता दें कि मोदी सरकार के पहले कार्यकाल के दौरान गृहमंत्री रहे राजनाथ सिंह को आर्थिक मामलों और सुरक्षा मामलों की कैबिनेट समितियों में शामिल किया गया था। हालांकि अब उन्हें संसदीय मामलों, राजनीतिक मामलों, निवेश और वृद्धि संबंधी समितियों के साथ-साथ रोजगार और कौशल विकास पर बनी कैबिनेट समिति में भी शामिल किया गया है।

पहले की लिस्ट

अप्वाइंटमेंट कमेटी ऑफ द कैबिनेट मेंबर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह।

कैबिनेट कमेटी ऑन अकोमडेशन

गृह मंत्री अमित शाह, रोड ट्रांसपोर्ट हाईवे मंत्री नितिन गडकरी, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और रेल मंत्री पीयूष गोयल के पास रहेगा। इसके अलावा इस कमेटी में जितेंद्र सिंह और शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी को भी शामिल किया गया है।

कैबिनेट कमेटी ऑन इकोनॉमिक अफेयर्स

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी, निर्मला सीतारमण, नरेंद्र सिंह तोमर, रवि शंकर प्रसाद, हरसिमरत कौर बादल, डॉ एस जयशंकर, पीयूष गोयल, धर्मेंद्र प्रधान और डीवी सदानंद गौड़ हैं।

कैबिनेट कमेटी ऑन पार्लियामेंट अफेयर्स

इस कमेटी में अमित शाह, निर्मला सीतारमण, रामविलास पासवान, नरेंद्र सिंह तोमर, रविशंकर प्रसाद, प्रकाश जावड़ेकर, प्रहलाद जोशी और थावर चंद गहलोत को जगह दिया गया है। कमेटी में विशेष तौर पर वी मुरलीधरन और अर्जुन राम मेघवाल को भी शामिल किया गया है।

कैबिनेट कमेटी ऑन पॉलिटिकल अफेयर्स

कैबिनेट कमेटी ऑन पॉलिटिकल अफेयर्स में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह, नितिन गडकरी, निर्मला सीतारमण, रामविलास पासवान, नरेंद्र सिंह तोमर, रविशंकर प्रसाद, हरसिमरत कौर बादल, डॉ हर्षवर्धन, पीयूष गोयल, प्रहलाद जोशी और अरविंद सावंत को शामिल किया गया है।

कैबिनेट कमेटी ऑन सिक्योरिटी

कैबिनेट कमेटी ऑन सिक्योरिटी में पीएम मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और विदेश मंत्री एस जयशंकर हैं।

कैबिनेट कमेटी ऑन इनवेस्टमेंट एण्ड ग्रोथ

कैबिनेट कमेटी ऑन इनवेस्टमेंट एण्ड ग्रोथ में पीएम मोदी के अलावा जिन मंत्रियों को जगह दी गई है उनमें अमित शाह, नितिन गडकरी, निर्मला सीतारमण और पीयूष गोयल शामिल हैं।

कैबिनेट कमेटी ऑन इम्पलॉयमेंट एण्ड स्किल डेवलेपमेंट

पीएम मोदी की महत्वकांक्षी योजना और रोजगार दिलाने के लिए बनाई गई कमेटी में कैबिनेट कमेटी ऑन इम्पलॉयमेंट एण्ड स्किल डेवलेपमेंट में प्रधानमंत्री के अलावा अमित शाह, निर्मला सीतारमण, नरेंद्र सिंह तोमर, पीयूष गोयल, धर्मेंद्र प्रधान, महेंद्र नाथ पांडे, संतोष कुमार गंगवार, रमेश पोखरियाल और हरदीप सिंह पुरी हैं। इसमें खास तौर पर नितिन गडकरी, स्मृति ईरानी, हरसिमरत कौर बादल और प्रहलाद सिंह पटेल को शामिल किया गया है।

loading...