Breaking News
  • 18वां कारगिल विजय दिवस आज- शहीद सैनिकों को नमन कर रहा है देश
  • फसल बीमा से जुडी कम्पनियाँ नुकसान का फ़ौरन आंकलन करें- मोदी
  • पाकिस्तानी आतंकवादी मोहम्मद कोया को कर्नाटक कोर्ट से 7 साल की सजा
  • भारत-श्रीलंका के बीच पहला टेस्ट मैच गाले में आज रंगना हेराथ संभालेंगे कप्तानी, चांदीमल बाहर
  • बाढ़ प्रभावित गुजरात में हवाई सर्वेक्षण के बाद पीएम ने किया 500 करोड़ का ऐलान
  • राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल का चीन दौरा- BRICS देशों की बैठक में लेंगे हिस्सा

अब इंटरनेट पर पोर्न वीडियो देखा तो समझो खैर नहीं!


नई दिल्ली: इन्टरनेट की दुनिया में जाल की तरह फैली पोर्न वेबसाइटों पर सरकार लगातार बैन लगा रही है। शनिवार को केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट (एससी) में बताया कि सरकार ने चाइल्ड पोर्न वेबसाइट बैन करने का लगातार काम कर रही है। सरकार ने पिछले महीने ही बड़ी तादात में पोर्न साइट्स को ब्लॉक किया गया है।

चाइल्ड पोर्नोग्राफी से जुडी वेबसाइट को लगर सरकार बंद कर रही है। उसके बाद भी इन पर अंकुश नहीं लगाया जा पा रहा है। एक याचिकाकर्ता की सुनवाई एक दौरान कोर्ट ने सरकार को फटकार लगा दी। जिसपर सरकार ने जवान्ब्ब देते हुए कहा कि चाइल्ड पोर्नोग्राफी को लेकर सरकार सख्त मूड में है। सरकार लगातर चाइल्ड पोर्नोग्राफी से जुडी साइट्स को ब्लॉक कर रही है।

केंद्र सरकार ने एससी को बताया कि पिछले महीने ही उसने चाइल्ड पॉर्नोग्राफीसे संबंधित 3,500 से अधिक वेबसाइटों को ब्लॉक किया, लेकिन उसे इन वेबसाइटों के कंटेंट पर लगाम लगाने के लिए स्कूल बसों में जैमर लगाने से इनकार कर दिया, लेकिन केंद्र सरकार ने हर हर सार्वजानिक जगह पर जैमर लगाने जैसी व्यवस्था से साफ़ इनकार कर दिया है।

सरकार ने कहा कि स्कूल, बस में जैमर लगा पाना मुश्किल है। ऐसे सरकार ने कहा कि इसके बच्चों को जानकारी देनी होगी, साथ ही लोगों को इन चीजों के प्रति जागरूक करना होगा। याचिकाकर्ता कमलेश वासवानी तथा सर्वोच्च न्यायालय महिला अधिवक्ता संघ ने इसपर एतराज दर्ज किया।

उन्होंने कहा कि सरकार कड़े कदम नहीं उठा रही है। वहीँ केंद्र सरकार ने एससी को बताया कि सरकार ने 3,500 वेबसाइटों को ब्लॉक किया है। आगे भी ऐसे साइटों को बंद करने का सिलसिला जारी है। वहीँ पूरी मामले को लेकर एससी 20 अगस्त की तारीख मुक़र्रर की की है।

loading...