Breaking News
  • 18वां कारगिल विजय दिवस आज- शहीद सैनिकों को नमन कर रहा है देश
  • फसल बीमा से जुडी कम्पनियाँ नुकसान का फ़ौरन आंकलन करें- मोदी
  • पाकिस्तानी आतंकवादी मोहम्मद कोया को कर्नाटक कोर्ट से 7 साल की सजा
  • भारत-श्रीलंका के बीच पहला टेस्ट मैच गाले में आज रंगना हेराथ संभालेंगे कप्तानी, चांदीमल बाहर
  • बाढ़ प्रभावित गुजरात में हवाई सर्वेक्षण के बाद पीएम ने किया 500 करोड़ का ऐलान
  • राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल का चीन दौरा- BRICS देशों की बैठक में लेंगे हिस्सा

गणतंत्र दिवस पर भारत में जुटेंगे 10 आसियान देशों के राष्ट्राध्यक्ष!


नई दिल्ली: नरेन्द्र मोदी सरकार की प्रभावी विदेश नीतुई के तहत अगली साल होने वाले गणतंत्र दिवस के मौके पर दस देशों के राष्ट्राध्यक्ष भारत में जुटने वाले हैं। पीएम नरेन्द्र मोदी के नेत्रत्व  के चलते 10 आसियान देशों के राष्ट्र प्रमुख भारत के गणतंत्र दिवस पर मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल होंगे।  

भारत साल 2018 में होने वाले गणतंत्र दिवस की परेड और समारोह में दस 10 आसियान राष्ट्र प्रमुखों को आमंत्रित करेगा। इन देशों के राष्ट्र प्रमुख भारत के गणतंत्र दिवस के मौके पर शामिल होकर न सिर्फ इतिहास रचेंगे बल्कि चीन की टेंशन भी बढ़ाएंगे। भारत गणतंत्र दिवस पर आसियान के सदस्य ब्रुनेई,  इंडोनेशिया, कम्बोडिया, लाओस, मलेशिया, म्यांमार, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड और वियतनाम के राष्ट्र प्रमुखों को आमंत्रित करने वाला है। इतिहास में ऐसा पहलीबार हो रहा है जब भारत के गणतंत्र दिवस पर 10 आसियान देशों के राष्ट्र प्रमुख जुटने वाले हैं। इसे पीएम नरेन्द्र मोदी की चीन को घेरने की नीति के तहत भी देखा जा रहा है। 

प्रेगनेंसी के डर से नहीं करते हैं सेक्स- तो जाने बचने के 5 आसान उपाय

 

साल 2014 में सत्ता में आने के बाद केंद्र की मोदी सरकार लगातार अपनी ‘लुक ईस्ट’ नीति को एक्ट ईस्ट नीति में बदल रही है। एनडीए सरकार का जोर है कि भारत की नीति ज्यादा गतिशील होनी चाहिए और न केवल आसियान बल्कि पूरे एशिया-प्रशांत को लेकर होनी चाहिए। जिसको लेकर भारत लगातार आसियान देशों से बेहतर संबंध स्थापित करने में लगा है। वहीँ  भाई इजरायल दौरे के बाद फिलीपींस को गणतंत्र दिवस के मौके पर बुलाना यह दर्शाएगा कि भारत का फिलीपींस के प्रति वही रवैया अभी भी कायम है।  

loading...