Breaking News
  • चार धाम यात्रा: छह महिने के बाद खुले केदारनाथ धाम के कपाट, कल खुलेंगे बद्रीनाथ के कपाट
  • वो (ममता) अब मेरे लिए पत्थरों और थप्पड़ों की बात करती हैं: मोदी
  • पश्चिम बंगाल के बांकुरा में पीएम मोदी की चुनावी रैली, ममता पर बोला हमला
  • लोकसभा की 543 में से 542 सीटों के चुनावी घमासान
  • लोकसभा चुनाव 2019 के लिए वोटों की गिनती, बड़ी बढ़त की ओर NDA

क्या राहुल गांधी असली हिंदू हैं? सुषमा ने जो कहा सुनकर दंग रह जाएंगे...

नई दिल्ली: देश की राजनीतिन में इन दिनों हिंदुत्व की चर्चा चरम पर है। जिन्होंने कभी राजनीति में खुलकर हिंदुत्व का सहारा नहीं लिया वे ही हिंदुत्व की चर्चा में शामिल हो रहे हैं। हालांकि यह पहला मौका नहीं है जब राजीनित में हिंदुत्व का जिक्र हो रहा है। बल्कि मौजूदा सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी के कई नेता ऐसा हैं जिनकी राजनीति ही हिंदुत्व से शुरू होती है और इसी पर खत्म होती है।

लेकिन हाल के दिनों में कांग्रेस पार्टी भी अपने आप को हिंदुत्व के सहारे आगे बढ़ाने का काम कर रही है। शायद कांग्रेस पार्टी को भी ऐसा लग रहा है कि अगर भारतीय राजनीति में जमे रहना है तो हिंदुत्व का सहारा लेना ही होगा। ऐसा हम नहीं कह रहे बल्कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने खुद ही साबित किया है। गौर हो कि पिछले कुछ दिनों कांग्रेस पार्ची राहुल गांधी को आस्थावान हिंदू बताते हुए भाजपा पर हमला बोल रही है।

 

बीजेपी सरकार के सर्जिकल स्ट्राइक पर राहुल का हमला, कहा, ‘हमने भी की थी…

इस बीच राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि, वह हिंदुत्व की बात करते हैं लेकिन हिंदुत्व की नींव नहीं जानते। जिसके बाद हिंदुत्व पर पहले से जारी सियासी घमासान और भी तेज हो गई है। इस बीच अब विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी राहुल गांधी और कांग्रेस पार्टी के हिंदुत्व पर जोरदाप प्रहार किया है।

उन्होंने जयपुर में एक प्रेस वार्ता के दौरान कहा कि, राहुल गांधी के मजहब और जाति को लेकर कांग्रेस भ्रमित है। राहुल गांधी की छवि हिंदू बनाने की कोशिश चुनाव के लिए हो रही है। सुषमा ने कहा कि, तंज कसते हुए कहा कि, क्या हिंदू होने का मतलब अब राहुल गांधी से समझना होगा। विदेश मंत्री ने कहा, संसद में डंके की चोट पर अविश्वास प्रस्ताव के दौरान चर्चा में राहुल ने कहा कि वे हिंदू हैं।

राहुल गांधी को मुश्किल में डाल अपने बयानों पलट गए सिद्धू!

सुषमा ने कहा कि, इसके बाद कांग्रेस को लगा कि सिर्फ हिंदू कहने से काम नहीं चलेगा, आस्थावान हिंदू होना जरूरी है। जिसके बाद कांग्रेस के नेताओं के कहने पर वो (राहुल) मानसरोवर यात्रा पर चले गए और लौटकर ख़ुद को शिव भक्त बताया। कांग्रेस नेताओं ने कहा कि दतिया पीठ जाओ, फिर कहा गया कि राजस्थान में पुष्कर जाओ तो वहां पहुंच गए।

loading...