Breaking News
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मध्य प्रदेश के एक दिवसीय यात्रा पर
  • अमेरिका का दक्षिण कोरिया के साथ संयुक्त सैन्याभ्यास रद्द
  • जम्मू-कश्मीर: सेना ने 22 आतंकियों की हिट लिस्ट तैयार की
  • JK: PDP के साथ गठबंधन टूटने के बाद श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पुण्यतिथि पर BJP की रैली

भारत के चीफ जस्टिस पर लगे ये गंभीर आरोप- जाने जजों की PC में क्या हुआ...

नई दिल्ली: दुनिया भर में सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश के तौर पर पहचान रखने वाले भारत की आज क्या दसा है, इस बात का अंदाजा आप ऐसे लगा सकते हैं कि देश की सबसे बड़ी अदालत के चार बड़े जज को मीडिया के सामने आकर अपनी बात रखनी पड़ी।

दरअसल सुप्रीम कोर्ट में चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के बाद चार सबसे बड़े जज न्यायमूर्ति जे चेलमेश्वर, न्यायमूर्ति रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति एम बी लोकुर और न्यायमूर्ति कुरियन जोसेफ ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि देश का लोकतंत्र खतरे में हैं। इस दौरान जजों ने चीफ जस्टिस पर भी गंभीर आरोप लगाए।

अब ऐसे दिखते हैं ‘राम’- उत्तर प्रदेश में हुआ था जन्म

जस्टिस चेलमेश्वर ने कहा कि 'हम चारों ने आज सुबह प्रधान न्यायाधीश से मुलाकात की और संस्था को प्रभावित करने वाले मुद्दे उठाए', जस्टिस ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में सबकुछ ठिक नहीं चल रहा है। जस्टिस ने चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा को एक पत्र भी लिखा लेकिन इसके बाद भी बात नहीं बन सकी। जिसके बाद आज जजों नें मीडिया के सामने उस पत्र की भी चर्चा की।

जजों ने कहा कि...

चीफ जस्टिस उस परंपरा से बाहर जा रहे हैं, जिसके तहत अहम मामलों में सामूहिक तौर पर फैसले लिए जाते रहे हैं।

जजों के अनुसार केस के बंटवारे में चीफ जस्टिस नियमों का पालन नहीं कर रहे।

सुप्रीम कोर्ट की अखंडता को प्रभावित करने वाले महत्वपूर्ण मामलों को मुख्‍य न्‍या‍याधीश बिना किसी वाजिब कारण के अपनी पसंद की बेंचों को सौंप देते हैं।

चीफ जस्टिस के ऐसा करने से संस्थान की छवि खराब हुई है।

सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने उतराखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस केएम जोसफ और सुप्रीम कोर्ट की वरिष्ठ वकील इंदु मल्होत्रा को सुप्रीम कोर्ट में जज नियुक्त करने की सिफारिश भेजी है।

कौन हैं ये महिला- जो वकील से सीधे सुप्रीम कोर्ट की जज बनने वाली हैं!

जस्टिस केएम जोसफ ने ही हाईकोर्ट में रहते हुए 21 अप्रैल, 2016 को उतराखंड में हरीश रावत की सरकार को हटाकर राष्ट्रपति शासन लगाने के फैसले को रद्द किया था।

सुप्रीम कोर्ट में तय 31 पदों में से फिलहाल 25 जज हैं, यानी जजों के 6 पद खाली हैं

loading...