Breaking News
  • मंदी से निपटने के लिए सरकार ने किए बड़े ऐलान, ऑटो सेक्टर को होगा उत्थान
  • तीन देशों की यात्रा के दूसरे चरण में यूएई की राजधानी आबू धाबी पहुंचे मोदी
  • देश भर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं
  • 1st Test Day-2: भारत की पहली पारी 297 रनों पर सिमटी, रवींद्र जडेजा ने बनाए 58 रन

सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील हैं बंगाल के नये राज्यपाल

नोएडा : पश्चिम बंगाल के नए गवर्नर जगदीप धनकर आज सुबह कोलकाता एयरपोर्ट पहुंच गये हैं, जो केशरीनाथ त्रिपाठी का स्थान लेंगे। उनके स्वागत के लिए एयरपोर्ट पर कई प्रशासनिक अधिकारी मौजूद  रहे। बता दें कि केंद्र की मोदी सरकार ने शनिवार को दो राज्यपालों का तबादला करने के साथ ही कुछ राज्यों में नये राज्यपाल नियुक्त के फैसले को मंजूरी दी है। जिनमें से एक जगदीप धनकर है। पश्चिम बंगाल के नवनियुक्त राज्यपाल जगदीप धनकर वरिष्ठ अधिवक्ता हैं, जो जनता दल के लिए सांसद भी रह चुके हैं।

धनकर बंगाल के पूर्व राज्यपाल केशरी नाथ त्रिपाठी का स्थान लेंगे जिनका कार्यकाल पूरा हो रहा है। जगदीप धनखड़ सुप्रीम कोर्ट में वरिष्ठ अधिवक्ता हैं। इसके अलावा वह राजस्थान के झुंझुंनूं से लोकसभा के लिए निर्वाचित हो चुके हैं। साल 1989 के लोकसभा चुनावों में भाजपा ने झुंझुंनूं से अपना प्रत्याशी उतारने की बजाय गठबंधन के तहत जनता दल प्रत्याशी जगदीप धनखड़ का समर्थन किया था, लेकिन इसके तुरंत बाद साल 1991 में हुए लोकसभा चुनावों में जनता दल ने जगदीप धनखड़ का टिकट काट दिया, तब उन्होंने कांग्रेस का हाथ थामा और अजमेर से लोकसभा चुनाव लड़ा लेकिन उन्हें वहां भी हार का मुँह देखना पड़ा।

धनखड़ किशनगढ़ क्षेत्र से राजस्थान विधानसभा के सदस्य भी रह चुके हैं। जाटों को ओबीसी दर्जा दिलाने के लिए धनखड़ ने काफी प्रयास किया। वह विभिन्न सामाजिक संगठनों से भी जुड़े रहे हैं। पश्चिम बंगाल में उनके सामने कानून का शासन बनाये रखने की बड़ी चुनौती होगी, क्योंकि ये वहीं राज्य है जहां देश में सर्वाधिक राजनीतिक हिंसा होती है। साथ ही भाजपा सरकार ने धनखड़ को राज्यपाल बनाकर जाट समुदाय को भी लुभाने का प्रयास किया है।

loading...