Breaking News
  • आईएस आतंकियों ने मोसुल की प्रसिद्ध नूरी मस्जिद को विस्फोट से उड़ाया
  • J&K: पुलवामा में रात भर चली मुठभेड़ के बाद लश्कर के 3 आतंकी ढेर-पत्थरबाज फिर बने रुकावट
  • दिग्गज टेनिस स्टार बोरिस बेकर दिवालिया घोषित
  • ISRO ने PSLVC38/कार्टोसैट-2 सैटेलाइट मिशन सीरीज का काउंटडाउन शुरू किया- आज सुबह 5:29 से हुआ शुरू
  • 20 लाख रुपये के टर्नओवर तक GST में छूट: राजस्व सचिव

गूगल, याहू और माइक्रोसॉफ्ट के साथ सभी सर्च इंजनों को सुप्रीम कोर्ट से 36 घंटे का अल्टिमेटम!


नई दिल्ली: देश भर में लिंग परीक्षण को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को एक बड़ा फैसला सुनाया है। अदालत नें गूगल, याहू और माइक्रोसॉफ्ट के अलावा अन्य सभी सर्च इंजनों को लिंग परीक्षण से संबंधित सभी विज्ञापनों को हटाने का निर्देश दिया है।

सभी सर्च इंजनों को जन्म से पहले लिंग परीक्षण कराने से संबंधित सभी विज्ञापनों को हटाने के लिए अदालत ने 36 घंटे का समय दिया है। इसके साथ ही अदालत नें भारत सरकार को इस मामले की देखरेख के लिए एक नोडल एजेंसी नियुक्त करने के आदेश दिए है।

मामले पर अदात में न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा और न्यायमूर्ति अमिताव राय की पीठ ने यह आदेश दिया है। अदालत की बेंच ने कहा कि केंद्र सरकार एक नोडल एजेंसी गठित करे, जोकि टीवी, रेडियो और अखबारों में ऐसे विज्ञापन जारी करेगी, जिसमें ऐसे किसी भी मामले की सूचना दी जा सकती है, जिसके बाद मामले को एजेन्सी अपने संज्ञान में लेगा।

मामले पर अगली सुनवाई के लिए अदालत ने 17 फरवरी का दिन तय किया है। इससे पहले भारत में लिंग अनुपात गिरने को लेकर अदालत नें अपनी चिंता जाहिर की और फिर यह फैसला लिया गया।

loading...