Breaking News
  • सोनभद्र जमीन मामले में अब तक 26 आरोपी गिरफ्तार, प्रियंका करेंगी मुलाकात
  • वेस्टइंडीज दौरे के लिए रविवार को 11:30 बजे होगा टीम इंडिया का चयन
  • बिहार : बाढ़ से अब तक 83 लोगों की मौत
  • कर्नाटक में आज दोपहर डेढ़ बजे तक सरकार को साबित करना होगा बहुमत

संसद में गूंजा, दिल्ली में 24 घंटे में 9 मर्डर

नई दिल्ली: राजधानी में बढ़ती आपराधिक घटनाओं से पूरी दिल्ली में दहशत का माहौल है। दरअसल  24 घंटे के अंदर तीन अलग-अलग आपराधिक घटनाओं में 9 लोगों की हत्या के बाद एक ओर दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल और दिल्ली पुलिस आमने-सामने है। वहीं दूसरी तरफ दिल्ली में आपराधिक घटनाओं का मसला सोमवार को राज्यसभा में भी गूंजा।

दिल्ली में बढ़ती आपराधिक घटानों को लेकर आप सांसद संजय सिंह ने कहा कि, दिल्ली देश की राजधानी अपराध के लिए जानी जा रही हैं। आय  दिन आपराधिक घटनाए  दिल्ली की सड़को पर हो रही है। उन्होंने कहा कि पिछले एक महीने क अंदर कई  राउंड फायर दिल्ली के सड़कों पर चला हैं।

सदन में जानकारी देते हुए आप नेता ने बताया कि 17 मई 17 राउण्ड फायर, 19 मई को 24 राउंड फायर,  21 मई को 17 राउंड फायर, 26 मई को 12 राउंड फायर, 7  जून को 14, 1  जून को 10  राउंड फायर, ये दिल्ली की सड़को पर हो रहा हैं। अपराध के अन्य मामले गिनाते हुए सिंह ने कहा,  2043 बलात्कार की घटनाये 1  साल के अंदर दर्ज की गयी है।  हत्या की घटनाओ में लगातार वृद्धि हो रही हैं।

संसद में हंगामें की बीच अपनी बात कहते हुए सिंह ने 'शोर होता है बहुत बोलने नहीं देता कोई'।  मैं बहुत अच्छी  तरीके से अपनी बात कह रहा हूं, कोई सुन्ना नही चाह रहा हैं। उन्होंने कहा कि, 833 पुलिस अधिकारियों को डाउटाफुल एंट्री की टीम में उनको रखा गया हैं, यानि उनकी कार्यपद्धति को संदेह के घेरे में रखा गया हैं। उनपर कोई कार्यवाही नहीं मान्यवर, दिल्ली के अंदर एक ऑटो वाले को सरबजीत को घसीट के जानवरों की तरह पीटा गया।  उसके बच्चे को पीटा गया, रिवॉल्वर निकालकर  उसके गर्दन पर रखा गया हैं।

उन्होंने कहा कि, मैं अपील करना चाहूंगा, आपके माध्यम से अनुरोध करना चाहूंगा कि दिल्ली के मसले पर अपराध रोकने के लिए महत्वपूर्ण मीटिंग बुलाये जाये।  मैं आग्रह करता हूं कि गृह मंत्रालय द्वारा बैठक बुलाया जाए, जिसमे दिल्ली के सभी पुलिस कमिश्नर और अला अधिकारियों को बुलाया जाये,  दिल्ली के मुख्यमंत्री को भी बुलाया जाये, ताकि वे भी अपना पक्ष रख सके। 

loading...