Breaking News
  • छत्तीसगढ़ में पहले चरण के मतदान में 3:45 बजे तक 49.12 फीसदी वोटिंग
  • पीएम मोदी ने वाराणसी-हल्दिया राष्ट्रीय जलमार्ग देश को समर्पित किया
  • अफगानिस्तानः राजधानी काबुल में बड़ा धमाका, कई लोगों के मारे जाने की आशंका

राम मंदिर पर राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा ने दिया राहुल को चुनौती, कहा वो तारीख बताये...

नई दिल्ली : राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा ने राम मंदिर मामले को लेकर विपक्ष पार्टियों द्वारा किया जा रहें हमले पर कड़ा प्रहार किया हैं। उन्होंने कहा कि विभिन्न राजनीतिक दल राम मंदिर बनाने को लेकर यह बयान दे रहें हैं कि वो राम मंदिर बनाने के पक्ष में है लेकिन बीजेपी और आरएसएस जान बूझकर टालमटोल कर रहीं हैं। इसके बाद उन्होंने कहा कि अगर वो राम मंदिर बनाने के पक्ष में हैं तो मैं संसद एक प्राइवेट बिल ला रहा हूं क्या वे इस बिल का समर्थन करेंगे।

चुनावी सरगर्मी के बीच आपस में ही भीड़े कांग्रेस के दो दिग्गज नेता, राहुल हुए ...

शिवराज सिंह चौहान के धमकी से डरे राहुल, 24 घंटें के अंदर ही माफी मांगी

गुरुवार को राकेश सिन्हा ने ट्वीट कर कहा कि जो लोग बीजेपी और आरएसएस को उलाहना दे रहे हैं कि राम मंदिर की तारीख बताएं क्या वह उनके प्राइवेट बिल का समर्थन करेंगे।उन्होंने लिखा कि अब समय आ गया है कि दूध का दूध और पानी का पानी हो जाए। राज्यसभा सांसद ने लिखा कि सुप्रीम कोर्ट ने आखिर आर्टिकल 377, जलीकट्टू, सबरीमाला पर निर्णय लेने पर कितने दिन लिए? अयोध्या का मामला उनकी प्राथमिकताओं में नहीं है, लेकिन हिंदुओं की प्राथमिकता में वह जरूर है।

मुलायम की बहू अपर्णा यादव ने मंदिर को लेकर दिया बयान, कहा मैं राम के साथ…

अयोध्या मामले पर योगी का बड़ा बयान, कहा , जल्द ही कुछ अच्छा होने वाला है : पढे पूरी खबर

उन्होंने ट्विटर के जरिए ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, लेफ्ट नेता सीताराम येचुरी, लालू प्रसाद यादव और मायावती से सीधा सवाल किया, कि क्या वह उनके इस बिल का समर्थन करेंगे. वे लगातार बीजेपी और संघ पर तारीख नहीं बताएंगे की बात कहते हैं, क्या अब वह जवाब देंगे।

महज 3 मिनट के सुनवाई में ही 3 महीने के लिए टला रामजन्भूमि की सुनवाई

राकेश सिन्हा के इन ट्वीटों से यह साफ हो गया हैं कि सरकार संसद में राम मंदिर निर्माण के लिए प्राइवेट बिल ला सकती हैं। शिवसेना ने इस बिल का समर्थन किया है लेकिन वहीं समाजवादी प्रवक्ता जूही सिंह ने कहा कि हम सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार करेंगे और वहीं मानेंगे। अब देखना यह दिलचस्प होगा कि सिन्हा के इस ट्वीट के बाद विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता की तरफ से क्या जवाब मिलता हैं? क्या विपक्षी पार्टियों द्वारा समर्थन न देने पर बीजेपी और विभिन्न हिंदू संगठनों द्वारा अध्यादेश लाने की कयास लगाए जा रहें हैं वो खत्म हो जाएगा।

सेना प्रमुख बिपिन रावत ने दी पाकिस्तान को सख्त चेतावनी, घुसपैठ रोके वरना...

loading...