Breaking News
  • असम में आज दोपहर 1.55 बजे तक कोरोना के 111 नए मामले, कुल संख्या 1672 हुई
  • 69,000 सहायक शिक्षकों की चल रही भर्ती प्रक्रिया पर लखनऊ हाईकोर्ट बेंच ने लगाई रोक
  • IB कर्मचारी अंकित शर्मा मर्डर केस में तारीन हुसैन का हाथ, दिल्ली पुलिस ने दाखिल की चार्जशीट
  • महाराष्ट्र में कोंकण तट से टकराया निसर्ग चक्रवात, 100 KMPH की रफ्तार से चल रही है हवाएं
  • हर प्रवासी मजदूर को 10 हजार की एकमुश्त मदद दे केंद्र : ममता बनर्जी

रेल मंत्री पीयूष गोयल का बड़ा ऐलान, जल्द ही स्थिति होगा सामान्य

रिपोर्ट : ए.के.रंजन

नई दिल्ली : देश में फैली महामारी के कारण तमाम सुविधाओं पर रोक लगा दिया गया था, जिसमें रेल सेवा, प्लेन सेवा और मेट्रो सेवा आदि थे। हालांकि समय गुजरते-गुजरते कई साधन और संसाधनों में छूट भी दिये गये। जिससे लोगों को रियायत मिल सकें। लेकिन रेलों और बसों का किराया महंगा होने के कारण कई मजदूर और मजबूर लोग पैदल ही पलायन करने लगे, जिससे वे भूखमरी और संसाधनों की कमी जैसे समस्याओं से बच सकें। फिर भी कई मजदूर प्रशासनिक और सरकार के अनदेखी के शिकार हुए।       

  

अब जबकि देश में लॉकडाउन-4 की शुरूआत हो चुंकी है, तो और भी कई चीजों में रियायत दी जा रही है। जैसे 25 तारीख से लोकल फ्लाइट उड़ने लगेंगे। कई और बसों और ट्रेनों का संचालन होगा। इन सभी रियायतों के बीच रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि कई और ट्रेनों को भी जल्द मंजूरी दी जाएगी। इसके साथ ही ट्रेनों का संचालन शुरू करने के लिए देश के 1.7 लाख केंद्रों पर ट्रेन टिकट बुकिंग चालू की जाएगी।

उन्होंने कहा कि हम और ट्रेनों को चलाए जाने की घोषणा जल्द करेंगे। अब समय आ गया है कि भारत में स्थिति दोबारा सामान्य बनाने की दिशा में कदम उठाए जाएं। रेल मंत्री के इस बयान से यह स्पष्ट हो गया कि जल्द ही देश में और ट्रेनों को चलाए जाने की घोषणा की जाएगी और इसके लिए काउंटर टिकट बुक करने की व्यवस्था भी दोबारा शुरू की जाएगी। गौरतलब है कि प्रवासियों के लिए अभी भी श्रमिक स्पेशल ट्रेन चल रहे है, जिसके लिए सिर्फ आईआरसीटीसी के जरिए ऑनलाइन बुकिंग ही हो रही है। ये व्यवस्था 15 स्पेशल ट्रेनों के लिए हैं जो हाल ही में चलाई गई हैं और उन 200 ट्रेनों के लिए है जो 1 जून से शुरू होने वाली हैं।

पीयूष गोयल ने कहा कि अगले दो से तीन दिनों में टिकट काउंटर्स से टिकटों की बुकिंग शुरू कर दी जाएगी, इसके लिए हम लगातार अध्ययन कर रहे हैं और प्रोटोकॉल विकसित कर रहे हैं।

loading...