Breaking News
  • संसद के शीतकालीन सत्र का आज दूसरा दिन
  • मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव: 114 सीटों के साथ कांग्रेस पहले नंबर की पार्टी, भाजपा के खाते में 109
  • विधानसभा चुनाव: जीतने वाली दलों को पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं, जनता को धन्यवाद
  • बीजेपी की नीतियों से जनता दुखी है, यही वजह है कि कांग्रेस जीती: मायावती

राहुल की फिसली जुबान, कराई पार्टी की किरकिरी, कुंभाराम लिफ्ट परियोजना को बताया कुंभकरण...

नई दिल्ली : छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश के बाद अब सभी पार्टियां राजस्थान में अपनी पूरी ताकत झोंक दिए हुए हैं। कांग्रेस हो या बीजेपी सभी पार्टियां अपने किये गये कार्यों एवं दूसरे सरकार पर आरोप प्रत्यारोप कर रहें हैं। इसी क्रम में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी एक सभा के दौरान अपने पार्टी द्वारा किये गये कार्यों को बता रहें थे। तभी अचानक उनकी जुबान फिसल गई और उन्होंने कुंभाराम परियोजना के स्थान पर कुंभकरण परियोजना के नाम लिया। जिसके बाद वहां मौजूद सभी लोग हंसने लगें।

बड़ी खबर : एक बार फिर दहल सकता है वाराणसी, विश्व के सुप्रसिद्ध मंदिर संकटमोचन मंदिर को उड़ाने की धमकी

 

दरअसल, राहुल पिछली कांग्रेस सरकार द्वारा झुंझुनू जिले में कराए गए विकास कार्यों को गिनाते हुए मीठे पानी के लिए कुंभाराम लिफ्ट कैनाल परियोजना का जिक्र करना चाह रहे थे, लेकिन उन्होंने  कुंभाराम लिफ्ट कैनाल के स्थान पर कुंभकरण लिफ्ट योजना कह डाला। जिसके बाद मंच पर मौजूद कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व जल मंत्री एवं खेतड़ी विधानसभा से कांग्रेस के प्रत्याशी डॉ. जितेंद्र सिंह ने राहुल गांधी को योजना का सही नाम बताया। जिसके बाद राहुल ने अपनी इस गलती को तुरंत सुधार करते हुए परियोजना के नाम का सही उच्चारण किया। इसके बाद राहुल ने कहा कि उन्होंने पहले फेज में इस योजना के लिए 955 करोड़ रुपये दिए। 3,200 करोड़ रुपये झुंझुनू और आसपास के जिलों के लिए दिया था। बीजेपी ने पांच साल में कुछ नहीं किया।

जिससे पूरी जिंदगी डरता रहा, वो भी कर दिया- कह कर रोने लगे गंभीर!

आपको बता दें कि इससे पहले भी कई बार राहुल अपने गलत उच्चारण को लेकर पार्टी की फजीहत करा चुकें है। गौरतलब है कि राजस्थान में ही किसान दवा की फैक्ट्री में फसल बेचने जैसा बयान दिया था। यूपी में उन्होंने आलू की फैक्ट्री वाला बयान दिया था। इस पर भी वो काफी ट्रोल हुए थे।  छत्तीसगढ़ में एक रैली के दौरान उन्होंने BHEL को मोबाइल निर्माता कंपनी बताई थी। उन्होंने कहा था कि ये जो मोबाइल है, ये इन्होंने BHELसे क्यों नहीं खरीदा? राहुल गांधी ने BHEL दो-तीन बार दोहराया।

विजय माल्या ने कहा- मैं पूरा पैसा लौटाना चाहता हूं, कृप्या मेरे इस ऑफर को स्विकार करें

loading...