Breaking News
  • नहाय खाय के साथ प्रकृति और सूर्य की उपासना का पर्व छठ पूजा शुरू
  • लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर आज वायु सेना का पहला अभ्यास
  • चीन की कम्युनिस्ट पार्टी ने राष्ट्रपति XiJinping के अगले पांच सालों के कार्यकाल को सहमति दी
  • आज पूरा विश्व मना रहा है United Nations Day, प्रथम विश्वयुद्ध के बाद 1929 में हुआ था गठन

क्या राहुल की कवायद आयेगी काम, या होगा फिर से बंटाधार!

नई दिल्ली: महागठबंधन में जारी अन्तःकलह के बीच राहुल गांधी ने नीतीश कुमार से फ़ोन पर बात कर उपराष्ट्रपति के मुद्दे पर समर्थन माँगा है। मालूम हो कि नीतीश कुमार का महागठबंधन के साथ गहरा विवाद बना हुआ है। विवाद के कारण बिहार सरकार पर भी खतरा मंडरा रहा है।

बतादें की कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार का महागठबंधन के दलों के साथ रिश्तों कडवाहट भरा गुजर रहा है। एक ओर नीतीश कुमार राष्ट्रपति चुनाव के मुद्दे पर एनडीए को समर्थन दे चुके हैं वहीं उपराष्ट्रपति के मुद्दे पर भी लगातार संदेह बना हुआ है, ऐसे में विपक्ष खासकर कांग्रेस को भारी नुक्सान उठाना पड़ सकता है, कांग्रेस पहले ही राष्ट्रपति के उम्मीदवार पर नीतीश का समर्थन गंवा चुकी है।

ऐसे में उपराष्ट्रपति उम्मीदवार के नाम पर समर्थन के लिए जेडीयू और नीतीश को मनाना जरुरी हो गया है। वहीं इसी मुद्दे पर राहुल गांधी ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से समर्थन मांगा है। जानकारी के मुताबिक खुद गोपालकृष्ण गांधी ने भी सीएम नीतीश कुमार से फोन पर बातचीत की है।

वहीँ नीतीश कुमार मंगलवार को हुई विपक्ष की बैठक से भी गायब रहे जिससे कांग्रेस के सामने संकट की स्थित बन गयी है। ऐसे नीतीश की साथ लाने के लिए खुद राहुल गांधी को मैदान में उतरना पड़ा है। अब देखना यह है राहुल गांधी के फोन का प्रभाव नीतीश कुमार पर कितना पड़ता है। वहीँ महागठबंधन में पड़ी दरार के कारण सारे हालत उलट हो गये हैं। नीतीश कुमार और लालू यादव के बीच एकबार फिर से सत्ता में बने रहने को लेकर घमासान जारी है।    

loading...