Breaking News
  • सोनभद्र जाने पर अड़ी प्रियंका गांधी, धरने का दूसरा दिन
  • असम और बिहार में बाढ़ से 150 लोगों की गई जान, 1 करोड़ से अधिक लोग प्रभावित
  • इलाहाबाद हाइकोर्ट ने पीएम मोदी को जारी किया नोटिस, 21 अगस्त को सुनवाई
  • कर्नाटक पर फैसले के लिए अब सोमवार का इंतजार

कांग्रेस के 51 सांसदों की भी बात नहीं मान सके राहुल, कह दिया ये बड़ी बात

नोएडा : कांग्रेस के 51 सासंदों के लाख मनाएं जाने के बावजूद भी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी नहीं माने। वे अपनी जिद्द पर अड़े हुए है। कांग्रेस के दिग्गज नेता शशि थरूर और मनीष तिवारी ने भी इन्हें लाख मनाने की कोशिश की लेकिन वो नहीं माने, वे अब भी अपनी जिद्द पर अड़े हुए है।

क्या हैं राहुल की जिद्द

लोकसभा चुनाव 2019 में कांग्रेस की करारी शिकस्त के बाद से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी बेहद चिंतिंत हो गए थे, क्योंकि उनके सभी घोषणाओं एवं भाषणों को जनता ने सरासर नकारते हुए बीजेपी को प्रचंड बहुमत से जिद्द दिलाई। जिसमें बीजेपी को 543 में से 282 एवं उनके गठबंधित दलों समेत 303 सीटों पर जीत मिली थी, जबकि कांग्रेस मात्र 52 ही सीटों पर जीत दर्ज कर सकी। जिसके बाद से कांग्रेस में राज्य के कांग्रेस अध्यक्षों के इस्तीफे का सिलसिला लगातार जारी रहा। जिसका मानसिक दबाव कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर पड़ना तय था, और राहुल ने भी यूपीए की बैठक में अपने इस्तीफे की पेशकश की। हालांकि कांग्रेस के विभिन्न नोताओं द्वारा राहुल गांधी को मनाने की कोशिश की गई, लेकिन वे अब भी नहीं माने।     

बता दें कि बुधवार को कांग्रेस के लोकसभा सांसदों की बैठक हुई, इस बैठक में कांग्रेस के 51 सांसद पार्टी समेत कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी मौजूद रहे। उन सभी सांसदों ने उन्हें इस्तीफे पर मनाने की कोशिश की, लेकिन वे नहीं माने। कांग्रेस सांसद शशि थरूर और मनीष तिवारी ने भी राहुल को अध्यक्ष पद पर बने रहने के लिए पक्ष में तर्क दिया कि हार सिर्फ आपकी जिम्मेदारी नहीं बल्कि सामूहिक है, इसलिए इसका समाधान हम सबको मिलकर करना होगा।

लेकिन राहुल भी कहा मानने वाले थे, वे अपने इस्तीफे के बयान पर अडिग रहे। उन्होंने साफ कर दिया कि वे कांग्रेस अध्यक्ष नहीं रहेंगे।

loading...