Breaking News
  • तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के प्रमुख के.चंद्रशेखर राव दूसरी बार बने मुख्यमंत्री
  • बीजेपी की संसदीय दल की बैठक, पीएम मोदी भी शामिल
  • जम्मू-कश्मीरः सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच बारामुला में मुठभेड़, दो आतंकी ढेर
  • संसद पर हुए आतंकी हमले की 17वीं बरसी, शहीदों को दी जा रही है श्रद्धांजलि

महिला स्वयं सहायता समूह की करोड़ों महिलाओं से पीएम मोदी की लाइव कांफ्रेंस...

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी गुरुवार को महिला स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) की 60 के करीब महिलाओं से संवाद कर रहे हैं। नई दिल्ली से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए पीएम नरेंद्र मोदी ने महिलाओं से उनकी समूह के बारे में जानकारी ली, साथ ही उनके सवालों के भी जवाब दिए।

बतादें कि पीएम नरेंद्र मोदी अभी महिला स्वयं सहायता समूह से जुडी महिलाओं से रूबरू हो रहे हैं। गुरुवार को पीएम मोदी ने खुद ट्वीट करके इसकी जानकारी दी है कि वह गुरुवार सुबह सुबह साढ़े नौ बजे से देशभर के महिला स्वयं सहायता समूहों से जुड़े लोगों से संवाद करेंगे। उन्होंने कहा कि उनका अनुभव सुनना सुन्दर अनुभव होगा। गुरुवार को पीएम नरेंद्र मोदी के महिलाओं के संवाद के दौरान अपनी सरकार की पीठ थपथपाई।

क्या कुछ कहा पीएम मोदी ने   

-मोदी ने अपने संवोधन की शुरुआत करते हुए कहा कि, मेरा सौभाग्य है कि आज देशभर की 1 करोड़ से ज्यादा महिलाओं से संवाद करने का अवसर मिला है। आप सब अपने आप में संकल्प, उद्यमशीलता और सामूहिक प्रयासों का एक प्रेरणादायी उदाहरण हैं।

बिहार: बीजेपी-जेडीयू गठबंधन पर मंडरा रहा ख़तरा, नीतीश की जिद में टूट सकती है जोड़ी!

-महिला सशक्तिकरण की जब हम बात करते हैं तो सबसे महत्वपूर्ण आवश्यकता होती है, महिलाओं को स्वयं की शक्तियों को, अपनी योग्यता को, अपने हुनर को पहचानने का अवसर उपलब्ध कराना।

-आज आप किसी भी सेक्टर को देखें, तो आपको वहां पर महिलाएं बड़ी संख्या में काम करती हुए दिखेंगी। देश के एग्रीकल्चर सेक्टर, डेयरी सेक्टर की तो महिलाओं के योगदान के बिना कल्पना ही नहीं की जा सकती।

-हमारे देश के ग्रामीण इलाकों में, छोटे उद्यमियों के लिए, श्रमिकों के लिए, सेल्फ हेल्प ग्रुप्स बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। ये सेल्फ हेल्प ग्रुप्स एक तरह से गरीबों, खासकर महिलाओं की आर्थिक उन्नति का आधार बने हैं।

वाकई में मामा का विकास पगला गया है: जानिए क्या है हृदयविदारक घटना

ये ग्रुप महिलाओं को जागरूक कर रहे हैं, उन्हें आर्थिक और सामाजिक तौर पर मजबूत भी बना रहे हैं।

-दीनदयाल अंत्योदय योजना, राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत देश भर की 2।5 लाख ग्राम पंचायतों में करोड़ों ग्रामीण गरीब परिवारों तक पहुंचने का, उन्हें स्थायी आजीविका के अवसर उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा गया है।

-इस योजना को सभी राज्यों में शुरु किया जा चुका है और मैं सभी राज्यों और वहां के अधिकारियों का भी अभिनन्दन करना चाहूँगा जिन्होंने इस योजना को लाखों-करोड़ों महिलाओं तक पहुँचा कर उनके जीवन में सुधार लाने का काम किया है।

-हमारी सरकार में पहले की तुलना में चार गुना अधिक सेल्फ हेल्प ग्रुप बने हैं और चार गुना अधिक महिलाओं को इससे जोड़ा गया है। जो महिलाओं के सशक्तिकरण के प्रति हमारी सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

-छत्तीसगढ़ में मुझे ई-रिक्शा पर सवारी करने का मौका मिला और आज वो ई-रिक्शा महिलाएं चला रही हैं। दुर्गम इलाकों में इससे आवाजाही करना आसान हुआ और महिलाओं की आय भी बढ़ी।

-मध्यप्रदेश की सेल्फ हेल्प ग्रुप से जुड़ी महिलाओं ने पीएम मोदी से साझा किया अपना अनुभव कि कैसे सेल्फ हेल्प ग्रुप से जुड़ने के बाद उन्होंने के जीवन में बड़े बदलावों को महसूस किया है। इससे वे अपने बच्चों की अच्छी पढ़ाई के साथ-साथ खुद की पढ़ाई कर पा रही हैं।

यह भी देखें-

loading...