Breaking News
  • बिहारः मुठभेड़ में खगड़िया के पसराहा थाना अध्यक्ष आशीष कुमार सिंह शहीद
  • J-K: पुलवामा में सुरक्षा बलों ने हिजबुल के एक आतंकी को मार गिराया
  • दिल्ली में आज पेट्रोल की कीमत 82.66 रुपए प्रति लीटर, डीजल 75.19 रुपए प्रति लीटर
  • J-K:स्थानीय निकाय चुनाव के लिए तीसरे चरण की वोटिंग जारी

मालदीव संकट: हेल्लो मोदी जी, ट्रंप बोल रहा हूँ...

नई दिल्ली/वाशिंगटन: मालदीव में जारी लोकतांत्रित संकट पर पूरी भारत की ओर किसी बड़े कदम की आस में टकटकी लगाये देख रही है। इसी कड़ी में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने देश के प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी से फोन पर बात कर जारी आपातकाल और और लोकतांत्रिक मूल्यों के हनन पर चिंता व्यक्त की है। यह फोन इस मौक पर आया है जब चीन ने भारत को चेतावनी दी है।

बतादें कि 1988 में मालदीव को तख्तापलट से बचाने वाले भारत से एक बार पूरी दुनिया की लोकतांत्रिक ताकते आस लागाये बैठी है कि भारत, मालदीव में जारी संकट और लोकतंत्र के हनन पर फिर से कोई बड़ा फैसला ले सकता है। लेकिन चीन जैसे देश ने भारत की किसी कार्रवाई से पहले ही इस मामले में दखल न देने की हिदायत देकर अपनी मंशा स्पष्ट कर दी थी। वहीँ भारत को चेताने के बाद अब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने देश के पीएम नरेन्द्र मोदी को फोन कर चीन को भी चेतावनी दे दी है कि वह कोई भी गलती करने से पहले सोच ले कि इस मुद्दे पर पूरी दुनिया की लोकतांत्रिक ताकते एक साथ है।

VIDEO: हवा में उड़ने वाली दुनिया की पहली टैक्सी- जरूरी नहीं है ड्राइवर…

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार सुबह पीएम नरेन्द्र मोदी से फोन पर बात की है। जहाँ दोनों नेताओं ने मालदीव संकट, नॉर्थ कोरिया, सहित दक्षिण एशिया में चीन के आक्रामक रवैये कर चर्चा की। मोदी-ट्रंप ने मालदीव में लोकतंत्र पर बनाए जा रहे दबाव पर चिंता जताई और जल्द ही समाधान होने की उम्मीद जताई। वहीँ इससे पूर्व भारत ने मालदीव में जारी संकट को लेकर अपनी वायु सेना और नेवी को अलर्ट पर रहने को रहा है, एक विंग को पूरी तरह किसी आदेश के इन्तेजार में खड़ी है।

NDA से दरक रही है TDP की उम्मीद, संसद में हो सकता है संग्राम!

ऐसे में चीन ने भारत को इस मामले में दखल न देने की चेतावनी दी थी, साथ ही कहा था की मालदीव में किसी अन्य पक्ष के दखल से जटिलता बढ़ेगी। चीन की धमकी इस लिए भी ख़ास हो जाती है कि मालदीव में आपातकाल लगाकर, सुप्रीम कोर्ट के जजों और विपक्षी नेताओं को जेल में डालने वाली राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन को चीन का करीबी माना जाता है। वहीँ देश आपातकाल और लोकतंत्र के हनन को लेकर मालदीव के निर्वासित पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद ने भारत से इस मामले में दखल देने की अपील की थी।

यह भी देखें-

loading...