Breaking News
  • हैदराबाद: नानकरामगुड़ा इलाके में एक 7 मंजिला इमारत गिरी
  • कोहरे की वजह से रेल और हवाई यातायात बाधित, 56 ट्रेन रद्द, हवाई यात्रा पर असर
  • पृथ्वी की कक्षा में जाने वाले पहले अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री जॉन ग्लेन का निधन
  • जूनियर वर्ल्ड कप हॉकी में भारत का शानदार आगाज, कनाडा को 4-0 से हराया
  • J-K: अनंतनाग में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़

नोटबंदी के बाद पीएम मोदी की नजर भाजपा नेताओं के खाते पर, 1 जनवरी को देना होगा जानकारी!

नई दिल्ली: देश में काले धन पर नकेल कसने के इरादे से पीएम मोदी ने 8 नंवबर की शाम में ऐलान किया कि आज आधी रात यानी की 9 नंवबर से 500 और 1000 के नोटों का लीगल टेंडर समाप्त किया जा रहा है।

इसके बाद 9 नवंबर से देश की जनता अपने पुराने नोटों के बदले नए नोटों के लिए बैंक के बाहर भारी संख्या में उमड़ने लगी, जो आज भी जारी है। गौर हो कि इस दौरान सरकार के विरोधी पार्टियों ने इसे एक घोटाला करार देते हुए आरोप लगाया कि सरकार के सहयोगियों को यह बात पहले से ही पता थी।

अपनी सरकार के उपर लगे रहे गंभीर आरोपों को देखते हुए पीएम ने मंगलवार को एक बड़ा ऐलान किया है। मोदी ने भारतीय जनता पार्टी के सभी सांसदों और विधायकों को निर्देश दिया है कि वे एक जनवरी को अपने बैंक स्टेटमेंट और खातों का विवरण पीएमओ में पेश करें ताकि इस बात का पता चल सकेत की नोटबंदी के दौरान उनके खाते में कितने पैसे जमा हुए है।

आपको बता दें कि पीएम मोदी के इस फैसले के बाद अब सभी भाजपा सांसदों और विधायकों को 8 नवंबर से 31 दिसंबर तक का ब्यौरा पीएमओ को देना होगा।