Breaking News
  • सोनभद्र जमीन मामले में अब तक 26 आरोपी गिरफ्तार, प्रियंका करेंगी मुलाकात
  • वेस्टइंडीज दौरे के लिए रविवार को 11:30 बजे होगा टीम इंडिया का चयन
  • बिहार : बाढ़ से अब तक 83 लोगों की मौत
  • कर्नाटक में आज दोपहर डेढ़ बजे तक सरकार को साबित करना होगा बहुमत

गालिब के सहारे मोदी ने कांग्रेस को दिखाया आइना!

नई दिल्ली: संसद में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री ने लोकसभा के बाद राज्यासभा में भी कांग्रेस पार्टी को धो दिया। लोकसभा में विपक्ष और कांग्रेस पर बरसने के एक दिन बाद ही मोदी ने बुधवार को राज्यसभा में कांग्रेस पर कई तीखे वार किए। संसद के उच्च सदन में पीएम ने अपने भाषण की शुरुआत राजस्थान बीजेपी के अध्यक्ष और राज्यसभा सांसद रहे मदनलाल सैनी को श्रद्धांजलि देते हुए किया। जिनका निधन 24 जून को दिल्ली के एम्स अस्पताल में हुआ है।

जिसके बाद अपने रंग में लौटे पीम आम चुनाव में मिले प्रचंड जनसमर्थन का जिक्र किया और कहा कि, नए जनादेश के बाद आज पहली बार राज्यसभा के सभी सदस्यों के बीच अपनी बात रखने का मौका मिला है। पहले से अधिक जनसमर्थन और अधिक विश्वास के साथ हमें दोबारा देश की सेवा करने का अवसर देशवासियों ने दिया है, इसके लिए सबका आभार प्रकट करता हूं। लेकिन दूसरे टर्म की शुरुआत में ही हमारे सदन के आदरणीय सदस्य मदनलाल जी हमारे बीच नहीं रहे, मैं उन्हें श्रद्धांजलि देता हूं।

वहीं पीएम अपने चिर-परिचित अंदाज में ईवीएम पर सवाल खड़े करने वालों पर जोरदार हमला बोला। पीएम ने गालिब के शेर 'ताउम्र गालिब यह भूल करता रहा, धूल चेहरे पर थी, आईना साफ करता रहा' का सहारा लेते हुए ईवीएम पर सवाल करने वाले विपक्ष को आइना दिखाया और कांग्रेस पर मतदाताओं का अपमान करने का आरोप लगाया।

ईवीएम के सहारे विपक्ष पर वार करते हुए मोदी ने कहा कि इतना अहंकार ठीक नहीं कि कांग्रेस जीते तो देश जीता और कांग्रेस हारी तो देश हारा। साथ ही पीएम ने 'एक देश, एक चुनाव' के मुद्दे पर बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में न आने को लेकर भी कांग्रेस पर निशाना साधा। साथस ही पीएम ने विपक्ष पर तंज कसते हुए कहा कि बीते 2 दिन से जो चर्चा चल रही है, उस चर्चा में गुलामनबी आजाद, दिग्विजय सिंह समेत करीब 50 सदस्यों हिस्सा लिया।

सबने अपने-अपने तरीके से अपनी बात कही। इनमें कहीं खट्टापन था तो कहीं तीखापन भी था। कहीं व्यंग्य था तो कहीं आक्रोश भी था और कहीं पर रचनात्मक सुझाव भी थे। हर तरह के भाव यहां प्रकट हुए हैं। वहींजिन्हें मैदान में जाने का मौका नहीं मिला उन्होंने अपना गुस्सा यहीं निकाला। साथ ही पीएम झारखंड मॉलिंचिंग समेत अन्य कई मुद्दों पर बयान दिया।

loading...