Breaking News
  • मंदी से निपटने के लिए सरकार ने किए बड़े ऐलान, ऑटो सेक्टर को होगा उत्थान
  • तीन देशों की यात्रा के दूसरे चरण में यूएई की राजधानी आबू धाबी पहुंचे मोदी
  • देश भर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं
  • 1st Test Day-2: भारत की पहली पारी 297 रनों पर सिमटी, रवींद्र जडेजा ने बनाए 58 रन

पीएम मोदी की ममता को चुनौती, कहा- शाम को मेरी रैली है, देखते हैं दीदी ...

उ.प्र. पश्चिम बंगाल में ममता के तेवर बेहद ही आक्रामक दिख रहें है, वे नहीं चाहती कि उनके इस गढ़ में कोई हस्तक्षेप हो। उन्हें शायद यह आभास हो गया है कि अब उनकी यह तानाशाही ज्यादा दिनों तक नहीं चलेगी। अपने इस तानाशाही रवैया को बनाए रखने के लिए ममता और उनके पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा लगातार बीजेपी के रैली, मंच और उनके कार्यकर्ताओं को निशाना बनाया जा रहा है। लेकिन ममता और उनके प्रशासन ये सब घटना आंख मूंदें देख रहीं थी। जिससे अजिज आकर चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार की समयसीमा एक दिन पहले ही तय कर दी तो यह बंगाली शेरनी और खूंखार हो गई। इसके लिए उन्होंने चुनाव आयोग पर पक्षपात करने का आरोप लगाया।

वहीं पीएम मोदी ने भी ममता सरकार को निशाना बनाते हुए उत्तर प्रदेश के मऊ में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कड़ा प्रहार किया। इस सभा को संबोधित करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘ममता बनर्जी यूपी बिहार के लोगों को बाहरी बता रही हैं। मैं आज एक बार फिर बंगाल जाने वाला हूं। बंगाल की मुख्यमंत्री 130 करोड़ लोगों के आशीर्वाद से चुने गए प्रधानमंत्री को अपना प्रधानमंत्री नहीं मानतीं।”

“ममता पाकिस्तान के प्रधानमंत्री को अपना प्रधानमंत्री मानती हैं, लेकिन हिंदुस्तान के प्रधानमंत्री को प्रधानमंत्री नहीं मानती। इसके अलावा उन्होंने टीएमसी पर अराजकता का आरोप लगाते हुए कहा कि जब ठाकुर नगर में उनकी रैली थी तो ऐसी हालत कर दी गई थी कि उन्हें अपना संबोधन बीच में छोड़ना पड़ा था।“

पीएम मोदी ने ममता पर सत्ते के नशे में चूर होने का आरोप लगाते हुए कहा, “दीदी का रवैया मैं बहुत दिनों से देख रहा हूं, अब पूरा देश देख रहा है। आज शाम को कोलकाता के दमदम में भी मेरी रैली है। देखते हैं दीदी ये रैली होने देती हैं या नहीं। उसका चले तो वो हमारे हेलिकॉप्टर को भी उतरने नहीं देंगी।”

पश्चिम बंगाल में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की रैली के दोरान हुई हिंसा पर पीएम मोदी ने कहा कि, “’टीएमसी के गुंडों की दादागिरी परसों रात भी देखने को मिली। भाई अमित शाह की रैली के दौरान टीएमसी के गुंडों ने ईश्वरचंद्र विद्यासागर की मूर्ति को तोड़ दिया। ऐसे करने वालों को कठोर से कठोर सज़ा दी जानी चाहिए।” साथ ही उन्होंने कहा कि वे वहीं पर पंचधातु की एक भव्य मूर्ति स्थापित करेंगे और टीएमसी के गुंडों को जवाब देंगे। ईश्वरचंद्र विद्यासागर सिर्फ बंगाल के ही नही बल्कि भारत के महानविभूति हैं। वे महान समाज सुधाकर और शिक्षा शास्त्री ही नहीं बल्कि गरीबों और दलितों के संरक्षक भी थे। जिसके बाद प्रधानमंत्री ने ये भी दावा किया की बीजेपी के मूल में ही बंगाल की संस्कृति और भक्ति है।

आपको बता दें कि पीएम मोदी गुरूवार को पश्चिम बंगाल में दमदम औऱ माथुरपुर में दो रैलियों को संबोधित करने वाले है। वहीं ममता बनर्जी माथुरपुर, डायमंड हार्बर, जोका और सुकांत सेतु में रैली और पदयात्रा करेंगी। इस सभा के दौरान उन्होंने एसपी प्रमुख अखिलेश यादव और बीएसपी प्रमुख मायावती पर भी जमकर निशानें साधे।

अखिलेश और ममता पर भी साधा निशाना

पीएम मोदी ने घोसी से एसपी-बीएसपी उम्मीदवार पर निशाना साधते हुए कहा, "सपा-बसा गठबंधन ने यहां से ऐसे उम्मीदवार को टिकट दिया है जो बलात्कार के आरोप में भगोड़ा है समाजवादी पार्टी का तो इतिहास यूपी के लोग जानते हैं, लेकिन बहन जी (मायावती) क्या आप ऐसे उम्मीदवारों के लिए वोट मांगेंगी। सपा के समय यूपी में बेटियों की क्या स्थिति थी ये सब जानते हैं, लेकिन बहन जी महिला सुरक्षा को लेकर आपका बर्ताव भी अब सवालों को घेरे में है।"

loading...