Breaking News
  • चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने सुप्रीम कोर्ट में आज चार नए जजों को दिलाई शपथ
  • ह्यूस्टन में हाउडी मोदी कार्यक्रम की सफलता पर भड़का पाकिस्तान
  • आर्मी चीफ बिपिन रावत का बयान, पाकिस्तान ने बालाकोट में आतंकी कैंपों को फिर से सक्रिय कर दिया है
  • गृह मंत्री ने कहा कि कहा कि 2021 की जनगणना में मोबाइल एप का प्रयोग होगा

कैबिनेट के सभी मंत्रियों के साथ पीएम मोदी ने भी दे दिया इस्तीफा

नई दिल्ली:लोकसभा चुनाव 2019 में प्रचंड बहुम के साथ जीत दर्ज करने वाली एनडीए ने नई सरकार की तैयारियां शुरू कर दी है। इससे पहले शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय मंत्रिमंड में शमिल मंत्रियों  ने सामूहिक तौर पर अपना इस्तीफा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को सौंप दिया। राष्ट्रपति ने पीएम व मंत्रिपरिषद का इस्तीफा स्वीकार करते हुए नई सरकार बनने तक मोदी से पद पर बने रहने का अनुरोध किया है।

आपको बता दें कि लोकसभा चुनाव 2019 में प्रचंड बहुमत से जीत दर्ज करने के बाद देश में ‘एक बार फिर मोदी सरकार’ की वापसी तय हो चुकी है। नई सरकार की गठन से पहले शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नेतृत्व में केंद्रीय कैबिनेट की बैठक हुई है। सूत्रों के मुताबिक बैठक में 16 वीं लोकसभा भंग किए जाने का प्रस्ताव पारित किया गया। अब इस प्रस्ताव को राष्ट्रपति के पास भेजा जाएगा। जिसपर संज्ञान लेने के बाद 17 वीं लोकसभा का गठन किया जाएगा।

बता दें कि 3 जून को 16वीं लोकसभा का कार्यकाल समाप्त हो रहा है, और इससे पहले 17वीं लोकसभा का गठन किया जाना है। हालांकि यह तब तक नहीं हो सकता जब तक चुनाव आयुक्त राष्ट्रपति को नवनिर्वाचित सदस्यों की सूची नहीं सौंप देते। चुनाव आयुक्त द्वारा इस प्रक्रिया के पूरी होने के बाद ही राष्ट्रपति अगली सरकार को मंजूरी देंगे।

इस बीच NDA ने दिल्ली में सासंदो की बैठक बुलाई है। जिसमें नरेंद्र मोदी को संसदीय दल का नेता चुना जाएगा। जिसके बाद मोदी दूसरी बार देश के प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ लेंगे। इन सभी प्रक्रियाओं के पूरा होने में दो-तीन दिन का वक्त लग सकता है। लेकिन इससे पहले शुक्रवार को हुई केंद्रीय कैबिनेट की बैठक को लेकर सूत्रों के हवाले से कुछ अहम जानकारी सामने आई है। बताया जाता है कि मोदी सारकार (2014-2019) की अंतिम कैबिनेट बैठक में नई सरकार (2019-2014) की मंत्रिमंडल को लेकर भी चर्चा हुई है।

loading...