Breaking News
  • UPElection: 5वें चरण के लिए चुनाव-प्रचार का आज आखिरी दिन
  • जम्मू कश्मीर: शादियों में फिजूलखर्ची पर सरकार ने पेश किया लाई बिल- मेहमानों की संख्या के साथ कई नियम
  • MCD चुनाव के लिए आप पार्टी ने किया 109 उम्मीदवारों का ऐलान
  • इंफाल: पीएम मोदी की चुनावी सभा- मणिपुर में कांग्रेस रहने को अधिकारी नहीं
  • पूर्वी भारत के विकास के बिना भारत का विकास अधूरा- मोदी
  • कांग्रेस जो काम 15 साल में नहीं कर पाई, हम 15 महीनों में करेंग- मोदी
  • पुणे टेस्ट: 333 रन से हारी टीम इंडिया- दूसरी पारी में भी 107 पर ऑलआउट

बड़े नोटों को बैन कर पीएम मोदी ने खुद पर की सर्जिकल स्ट्राइक, हुआ यह नुकसान...!


NEW DELHI:- 8 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कालेधन से निपटने के लिए एक बड़े जंग का ऐलान करते हुए  500 और 1000 रुपए के नोटों को बैन कर दिया। जिसके बाद कई लोग इस कदम के लिए पीएम मोदी की तारीफ कर रहे है। लेकिन इस बड़ी खबर ने पीएम मोदी की खुद पर सर्जिकल स्ट्राइक कर दिया है। पीएम मोदी की इस घोषणा के अगले ही दिन उनके ट्विटर एकाउंट पर करीब तीन लाख लोगों ने उनका साथ छोड़ दिया है।  

आलम ये है कि पीएम मोदी की आलोचना करने वालों की संख्या बढ़ गई है। ट्विटर पर इस नाराज़गी को आसानी से समझा जा सकता है। मोदी के फॉलोअर इस फैसले से अचानक से कम हो गए हैं और राहुल केजरीवाल के बढ़ गए। आठ नवंबर की रात की गई घोषणा के अगले दिन यानी नौ नवंबर को नरेंद्र मोदी के ट्विटर फॉलोअर्स की संख्या में तीन लाख से भी ज्यादा की कमी आ गई। माइक्रोब्लॉगिंग एनिलीटिकल वेबसाइट ट्विटर काउंटर नामक वेबसाइट के अनुसार इस दिन (9 नवंबर को) आश्चर्यजनक रूप से नरेंद्र मोदी के 3 लाख 13 हजार ट्विटर फॉलोअर्स ने उन्हें अनफॉलो कर दिया।

बताया जा रहा है कि नवंबर में भी औसतन रोजाना मोदी के ट्विटर फॉलोअर्स की संख्या में 25 हजार का इजाफा हो रहा था। लेकिन 1000-500 के करेंसी नोटों को बंद करने की घोषणा के बाद से पीएम मोदी के फॉलोअर्स की संख्या में अप्रत्याशित कमी आई है।