Breaking News
  • UPElection: 5वें चरण के लिए चुनाव-प्रचार का आज आखिरी दिन
  • जम्मू कश्मीर: शादियों में फिजूलखर्ची पर सरकार ने पेश किया लाई बिल- मेहमानों की संख्या के साथ कई नियम
  • MCD चुनाव के लिए आप पार्टी ने किया 109 उम्मीदवारों का ऐलान
  • इंफाल: पीएम मोदी की चुनावी सभा- मणिपुर में कांग्रेस रहने को अधिकारी नहीं
  • पूर्वी भारत के विकास के बिना भारत का विकास अधूरा- मोदी
  • कांग्रेस जो काम 15 साल में नहीं कर पाई, हम 15 महीनों में करेंग- मोदी
  • पुणे टेस्ट: 333 रन से हारी टीम इंडिया- दूसरी पारी में भी 107 पर ऑलआउट

पैसों के लिए कतार में खड़ी है जनता और बुधवार से शुरू हो रहा है संसद का शीतकालीन सत्र!


नई दिल्ली: पिछले 8 नंवर को देश में नोबंदी लागू होने के 8 दिन बाद यानी की बुधवार 16 नवंबर से देश की संसद का शीतकालीन सत्र शुरू हो रहा है। गौर हो कि नोटबंदी के लागू होने के बाद से देश की जनता बैंकों और ATM के बाहर कतार में खड़ी है, और सरकार विपक्ष के निशाने पर है!

ऐसे में संसद संत्र बड़ा ही दिलचस्प होने वाला है। एक ओर सरकार परेशान जनता से भरपूर समर्थन का दावा करते हुए संसद में विपक्ष के तमाम सवालों के जवाब के लिए कमर कस चुकी है, तो वहीं विपक्ष भी उसी परेशान जनता के परेशानियों को ससंद में उजागर कर सरकार को घेरने की तैयारी में लगी है।

वैसे तो सरकार इस फैसले को काला धन के खिलाफ एक ठोस कार्यवाई बता रही है, लेकिन सरकार के इस फैसले पर लगभग सभी विरोधी पार्टियां एक साथ दिख रही है। हालांकि नोटबंदी एक ताजा मुद्दा है, इसके अलाव भी विपक्ष मोदी सरकार को वन रैंक वन पेंशन, कश्मीर मुद्दे,  किसानों के मुद्दे के साथ-साथ सर्जिकल स्ट्राइक जैसे मुद्दे पर भी घेर सकता है।

आपको बता दें कि शीतकालीन सत्र से पहले पीएम मोदी ने आज एक सर्वदलिय बैठक बुलाई, लेकिन इस बैठक में शामिल होने से पहले कांग्रेस पार्टी ने एक बैठक की, और फिर कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, माकपा के अलाव कुछ अन्य दलों के नेताओं ने भी एक बैठक की है।

इससे साफ पता चलता है कि मोदी सरकार के लिए शीतकालीन सत्र कैसा रहने वाला है, हालांकि इन सभी बैठकों के बाद भी सत्ताधारी बीजेपी विपक्ष के सभी सवालों का करारा जवाब देने की तैयारी भी पूरी कर ली है।