Breaking News
  • सोनभद्र जमीन मामले में अब तक 26 आरोपी गिरफ्तार, प्रियंका करेंगी मुलाकात
  • वेस्टइंडीज दौरे के लिए रविवार को 11:30 बजे होगा टीम इंडिया का चयन
  • बिहार : बाढ़ से अब तक 83 लोगों की मौत
  • कर्नाटक में आज दोपहर डेढ़ बजे तक सरकार को साबित करना होगा बहुमत

‘एक देश - एक चुनाव’ के मत पर नहीं एकमत सभी दल, साथ नहीं दिखेंगे...

नोएडा : जहां एक तरफ लोकसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हर मंच से ‘एक देश-एक चुनाव’ का मुद्दा जोरशोर से उठाया था, वहीं अब इसपर एक और कदम आगे बढ़ाते हुए, प्रधानमंत्री ने सभी राजनीतिक दलों के प्रमुख और राज्यों के मुख्यमंत्रियों को बैठक के लिए आमंत्रित किया है। हालांकि, बंगाल की धुरविरोधी ममता बनर्जी समेत कुछ अन्य नेताओं ने मोदी की बैठक का बहिष्कार किया है...

देश में पिछले काफी समय से एक साथ विधानसभा और लोकसभा चुनाव कराने की मांग छिड़ी हुई है, जिसे लेकर बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सर्वदलीय बैठक बुलाई है। पीएम ने इस बैठक में राष्ट्रीय और क्षेत्रीय पार्टियों के अध्यक्ष को शामिल होने का निमंत्रण दिया है, हांलाकि पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी और आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू ने मोदी की बैठक का बहिष्कार करने का फैसला किया है।

वहीं बैठक में शामिल होने को लेकर बसपा सुप्रिमों मायावती ने पीएम मोदी पर निशाना साधा है। माया कहती है, ‘ये राष्ट्रीय समस्याओं से ध्यान बांटने का प्रयास और छलावा मात्र है, अगर चुनाव की जगह ईवीएम पर बैठक होती तो मैं जरूर शामिल होती। लेकिन चुनाव को लेकर जारी बैठक का मैं हिस्सा नहीं बनूंगी। साथ ही मायावती ने कहा कि, ‘किसी भी लोकतांत्रिक देश में चुनाव कभी कोई समस्या नहीं हो सकता और न ही चुनाव को कभी धन के व्यय-अपव्यय से तौलना उचित नहीं है। देश में 'एक देश, एक चुनाव' की बात वास्तव में गरीबी, महंगाई, बेरोजगारी, बढ़ती हिंसा जैसी ज्वलंत राष्ट्रीय समस्याओं से ध्यान बांटने का प्रयास और छलावा मात्र ही है।

आपको बता दें कि बुधावार को पीएम की बैठक के साथ ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का जन्मदिन भी है, ऐसे में उनके आने या ना आने पर भी हर किसी की नजरें टिकी है। वहीं इससे हटकर अगर बात करें पीएम की बैठक की तो इस बैठक में वन नेशन वन पोल के अलावा भी कई मुद्दों पर बात होगी। 2022 में भारत अपनी आजादी के 75 साल पूरा कर लेगा, इसे मोदी सरकार बड़े रूप में मनाना चाहती है, जिस पर सभी दलों से बात हो सकती है। साथ ही महात्मा गांधी की 150वीं जयंती का जश्न और सदन में कामकाज के सुचारू रूप से चलने को लेकर बैठक में प्रधानमंत्री बात करेंगे।

loading...