Breaking News
  • मंदी से निपटने के लिए सरकार ने किए बड़े ऐलान, ऑटो सेक्टर को होगा उत्थान
  • तीन देशों की यात्रा के दूसरे चरण में यूएई की राजधानी आबू धाबी पहुंचे मोदी
  • देश भर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं
  • 1st Test Day-2: भारत की पहली पारी 297 रनों पर सिमटी, रवींद्र जडेजा ने बनाए 58 रन

मुखर्जी, देशमुख और हजारिका को भारत रत्न, राष्ट्रपति कोविंद ने दिया सम्मान

नई दिल्ली : ये नजारा है अलंकर्ण समारोह में भारत के राष्ट्रपति के आगमन का जहां वह देश के तीन वीभूतियों को सर्वोच्च नागरिक सम्मना से सम्मानित करने जा रहे हैं। इस आयोजन के दौरान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ सत्ता व विपक्ष के कई दिग्गज नेता मौजूद रहे।

राष्ट्रपति भवन में आयोजित कार्यक्रम में प्रणब मुखर्जी, नानाजी देशमुख और भूपेन हजारिका को भारत रत्न सम्मान से सम्मानित किया गया। देशमुख और हजारिका को यह सम्मान मरणोपरांत दिया गया, जबकि पूर्व राष्ट्रपति खुद सम्मान ग्रहण करने के लिए सभागार में मौजूद रहे।

मरणोपरांत सम्मान पाने नानाजी देशमुख एक भारतीय समाजसेवी थे। पूर्व में भारतीय जनसंघ के नेता रहे देशमुख को जब जनता पार्टी की सरकार में मंत्री पद मिला तो उन्होंने यह कह कर ठुकरा दिया कि 60 साल से अधिक आयु के लोग सरकार से बाहर रहकर समाज सेवा का कार्य करें। नानाजी देशमुख का निधन 27 फरवरी 2010 को 94 साल की उम्र में हुआ था।

मरणोपरांत भारत रत्न पाने वाले हजारिका कवि, सिंगर, गीतकार और फिल्म निर्माता के तौर पर जाने जाते हैं। जिनका निधन 85 साल की उम्र में साल 2011 में हुआ था।  जबकि सम्मान पाने वाले तीसरे हस्ती पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी भारतीय राजनीतिक के वो कोहीनुर है, जिसके सम्मान मे विरोधी दलों के नेता भी सजदे करते हैं।

बता दें 70वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर 25 जनवरी 2019 को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने तीनों नामचीन हस्तियों के लिए भारत रत्न की घोषणा की थी।

loading...