Breaking News
  • सोनभद्र जाने पर अड़ी प्रियंका गांधी, धरने का दूसरा दिन
  • असम और बिहार में बाढ़ से 150 लोगों की गई जान, 1 करोड़ से अधिक लोग प्रभावित
  • इलाहाबाद हाइकोर्ट ने पीएम मोदी को जारी किया नोटिस, 21 अगस्त को सुनवाई
  • कर्नाटक पर फैसले के लिए अब सोमवार का इंतजार

250 से अधिक मौत! बिहारा में हाहाकार, आखिर कौन है जिम्मेदार

पटना: धरती पर जीवन का पता नहीं और सरकार चांद के पार चलो का नारा दे रही है। कितना अच्छा लगता है जब इसरो अंतरिक्ष में सफलता के कई झंढे बुलंद कर चांद और मंगल पर जीवन तलाशने की बात करता है। इतना ही नही इसरो तो सूरज और वेनस पर भी अध्यन करने की बात कर रहा है...

हर इंडियान का सीना फूल कर 56 इंच का हो जाता है, लेकिन जरा बिहार चलिए, यहां बीते कई दिनों से चमकी बुखार देश का भविष्य निगले जा रहा है। चमकी का जानलेवा कहर अभी थमा भी नहीं था कि अब लू भी लोगों की जिंदगियां जला रही है।

बीते 24 घंटों में 20 बच्चों की मौत से अब बिहार में चमकी ने 100 से अधिक मांओं की गोद सूनी कर दी है। घर का चिराग रोशन होने से पहले ही बुझता जा रहा है। दिल्ली वाले मोदी हों या बिहार वाले नीतीश सब सोच रहे है, आखिर बिहार में ये हो क्या रहा है। लेकिन सोचने का क्या, वो तो पाकिस्तान भी विश्व कप में भारत को हराने की सोच रहा है, आज से नहीं 1992 से ही सोच रहा है...

खैर पाकिस्तान को अपने हाल पर छोड़िए और अब बिहार के मुजफ्फरपुर  से औरंगाबाद चलिए। जहां लू लोगों को निगलने पर आमादा है। जान लिए बिना जाने को तैयार नहीं! आलम ये है कि यमराज के यहां भी ट्रैफिक जाम लगा है! गया के विष्णुपद शमशान घाट में एक ही दिन में 70 से अधिक लाशें देख डोमराज भी दहल गए। कहते हैं अब से पहले एक साथ इतनी लाशें कभी नहीं देखा।

दिल्ली का मौसम थोड़ा सुहाना क्या हुआ कि बिहार में मौसम आग उगलने लगा। पटना में गर्मी ने 53 सालों का रिकॉर्ड तोड़ दिया। दो दिनों तक पटना बिहार का सबसे गर्म शहर बना रहा और मौसम विभाग का अनुमान है कि आगे भी ऐसा ही बना रहेगा। बिहार के अलग-अलग शहर, गांव, कसबों में अब तक लू से 160 से भी अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।

लेकिन अपनी नाकामियां छिपाने के लिए प्रशासन मौत के आकड़े को 50-60 बता कर मामले को हल्के में ले रहा है। लेकिन क्या बिहार में लोगों की जान की कोई कीमत नहीं है। इसका जवाब तो सुशासन को देना ही होगा।

loading...