Breaking News
  • मंदी से निपटने के लिए सरकार ने किए बड़े ऐलान, ऑटो सेक्टर को होगा उत्थान
  • तीन देशों की यात्रा के दूसरे चरण में यूएई की राजधानी आबू धाबी पहुंचे मोदी
  • देश भर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं
  • 1st Test Day-2: भारत की पहली पारी 297 रनों पर सिमटी, रवींद्र जडेजा ने बनाए 58 रन

धारा 370 हटाने के सूत्रधार है मोदी के जेम्स बॉन्ड, इस बार भी होगी शानदार ...

नोएडा : जम्मू-कश्मीर की सियासत में 5 अगस्त को हुए ऐतिहासिक बदलाव के बाद पूरे हिंदुस्तान की निगाहें जम्मू-कश्मीर पर ही टिकी है, कि कर्फ्यू हटने के बाद क्या होगा? क्या धारा 370 छूने पर जला कर राख कर देने वाले जुबान अब जहर नहीं उगलेंगे? ये इंतजार इसलिए भी गहराता जा रहा है, क्योंकि 12 अगस्त को बकरीद है? और कई लोगों के जेहन  में सवाल खटक रहा है कि क्या इस साल भी जम्मू-कश्मीर में ईद पर वैसी ही चमक-दमक होगी, जैसे पिछले बरस थी? वैसे इस सवाल का सटिक जवाब के लिए थोड़ इंतजार और करना होगा लेकिन भारत के 007 यानी जेम्स बॉन्ड इसी काम में जुटे हुए है…

दुआ करो, ऐसी हो ईद, सब हो जाएं कश्मीर के मुरीद... आपके लिए भले ही ये चंद अल्फाज हैं, जिसे इस कान से सुना और उस कान से निकाल दिया, लेकिन भारत के जन्नत में रह रहें लोगों के लिए ये मनचाही मुराद है, जिसकी उम्मीद हर छोटे-बड़ों को है। भाई चारे का पैगाम लिए पावन त्योहार दरवाजे पर दस्तक दे रहा है और प्रधानमंत्री ने वादा किया इस साल का ईद और भी यादगार होगा, शानदार होगा, क्योंकि अब जन्नत में धारा 370 का अंधेरा छटा है, नया सवेरा हुआ है।

पीएम ने ऐसा भरोसा जम्मू-कश्मीर में जारी कर्फ्यू और धारा 144 के लागू होने के दौरान ही दिया था। और अब इसके असर भी दिखने लगे हैं। कश्मीर के गलियों और बाजारों में पसरा सन्नाटा गायब हो रहा है। सड़कों पर सुरक्षाबलों की मुस्तैदी आम और शांति प्रिय लोगों के लिए ढ़िली पड़ रही है। दुकानें खुलने लगे हैं। बाजार और वादियों में रौनक लैट रही है। जो बता रही हैं कि ईद से पहले सब कुछ सामान्य होगा और कश्मीरियों का ईद भी दिल्ली जैसा होगा।

ईद के जश्न में कोई खलल नहीं होगी वाले भरोसे का असर शुक्रवार को जुम्मे वाले दिन भी दिखा, जब सुरक्षाबलों ने आम लोगों के लिए सारे रास्ते खोल दिए, और काफी संख्या में लोगों ने अलग-अलग मस्जिदों में नमाज अदा किया। एक दूसरे से मुलाकात की और आजादी की नई फिजा में चैन की सांस भरते हुए एक दूसरे के गले मिले। वहीं दूसरी तरफ राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोवाल भी इसी मिशन में जुटे हैं।

ये नजारा है भारत का जन्नत कहे जाने वाले जम्मू-कश्मीर का, जहां के लोग करीब 70 साल बाद आजादी की सांस ले रहे हैं। ये आजादी की धारा 370 से है, जिसकी जकड़न में सात दशक से जकड़े जम्मू-कश्मीर का दम फूल रहा था। लेकिन मौजूदा मोदी सरकार ने अद्भूत साहस का परिचय देते हुए जम्मू-कश्मीर को विशेषाधिकार दिलाने वाली मौत की धारा 370 से आजादी दिलाने के साथ ही जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को दो अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश बना कर न सिर्फ इतिहास बल्कि भूगोल भी बदल दिया।

जम्मू-कश्मीर में चली परिवर्तन की आंधी का श्रेय भारत सरकार की मजबूत इच्छा शक्ति को जाता है लेकिन इसके असली हीरो राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोवाल है, जिन्हें लोग जेम्स बॉन्ड बुला रहे हैं, जिनका ज्यादातर समय जम्मू-कश्मीर की वादियों और गलियों में ही गुजर रहा है। मीडिया और सोशल मीडिया पर डोवाल के कई वीडियो वायरल हो रहे हैं, जिसमें वह आतंकित कश्मीरियों से बातचीत कर उनके मन में संपूर्ण सुरक्षा की ज्वाला प्रज्वलित कर रहे हैं।

डोवाल की ये तस्वीरें जम्मू-कश्मीर को 370 से मिली आजादी के बाद की है, लेकिन सूत्र बताते हैं कि 370 से आजादी की पूरी जिम्मेदारी डोवाल के कंधों पर ही थी। जिसपर वह काफी समय गुप्त तरीके से काम कर रहे थे और अब अजान देने के बाद डोभाल खुलकर सामने आए, और आम लोगों को भरोसे में लेकर नई सुबह का भरोसा दिला रहे हैं।

loading...