Breaking News
  • UPElection: 5वें चरण के लिए चुनाव-प्रचार का आज आखिरी दिन
  • जम्मू कश्मीर: शादियों में फिजूलखर्ची पर सरकार ने पेश किया लाई बिल- मेहमानों की संख्या के साथ कई नियम
  • MCD चुनाव के लिए आप पार्टी ने किया 109 उम्मीदवारों का ऐलान
  • इंफाल: पीएम मोदी की चुनावी सभा- मणिपुर में कांग्रेस रहने को अधिकारी नहीं
  • पूर्वी भारत के विकास के बिना भारत का विकास अधूरा- मोदी
  • कांग्रेस जो काम 15 साल में नहीं कर पाई, हम 15 महीनों में करेंग- मोदी
  • पुणे टेस्ट: 333 रन से हारी टीम इंडिया- दूसरी पारी में भी 107 पर ऑलआउट

मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया, क्यों लिया नोटबंदी का फैसला ?


नई दिल्ली:  देश भार में नोटबंदी जारी करने के बाद लगातार विपक्ष के निशाने पर चल रही मोदी सरकार ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट नें अपने इस फैसले का बचाव किया है।

नोटबंदी पर सुप्रीम कोर्ट में दायर हलफनामें में केंद्र सरकार की ओर से बताया गया कि सरकार ने यह फैसला काले धन को बाहर निकाले के लिए शुरू किए गए उपायों के तहत लिए है।

इसके अलावा सरकार ने नोटबंदी को लेकर कहा कि सरकार के इस कदम से 70 साल से चले आ रहे ब्लैक मनी के भार से भी मुक्ति मिलेगी।

इसके अलावा सरकार ने अदालत को बताया कि इस फैसले से कैश ट्रांजैक्शन को खत्म कर डिजिटल को बढ़ावा देने में मदद मिलेगा है।

सरकार ने बताया कि दुनिया के अन्य देशों में जीडीपी का 4% कैश ट्रांजैक्शन किया जाता है, लेकिन हमारे देश में जीडीपी का 12% के आस-पास किया जाता है।

सरकार ने बताया कि इस फैसले से नकली नोट भी खत्न होंगे। आतंकी फंडिंग पर असर हुआ है। सरकार ने इस फैसले पर कानूनी तरीके बाताते हुए कहा कि आरबीआई एक्ट-26 और बैंक रेगुलेशन एक्ट के तहत सरकार को करेंसी नोट का लीगल टेंडर समाप्त करने का अधिकार है।

इसके अलाव सरकार के पास कुछ सेवाओं में इससे छूट देने का भी अधिकार प्राप्त है।