Breaking News
  • मोदी की बंपर जीत पर राहुल गांधी ने दी शुभकामनाएं
  • अमेठी सीट से हारे राहुल गांधी, वायनाड से मिली जीत
  • प्रियंका गांधी के साथ कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में पहुंचे राहुल गांधी
  • राहुल गांधी के इस्तीफे पर सस्पेंस बरकरार
  • मां से आशीर्वाद लेने के लिए कल गुजरात जाएंगे मोदी
  • सूरत अग्निकांड में अब तक 21 की मौत, 3 के खिलाफ FIR दर्ज
  • चार धाम यात्रा: छह महिने के बाद खुले केदारनाथ धाम के कपाट, कल खुलेंगे बद्रीनाथ के कपाट
  • वो (ममता) अब मेरे लिए पत्थरों और थप्पड़ों की बात करती हैं: मोदी
  • पश्चिम बंगाल के बांकुरा में पीएम मोदी की चुनावी रैली, ममता पर बोला हमला
  • लोकसभा चुनाव 2019: NDA को प्रचंड बहुमत, 300 से अधिक सीटों पर बीजेपी की जीत
  • 24 मई: आज भंग हो सकती है 16वीं लोकसभा, पीएम मोदी की अध्यक्षता में केन्‍द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक

ममता ने क्यों कहा 'मोदी को उठक-बैठक करनी चाहिए'

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव के तहत अंतिम व सातवें चरण की वोटिंग से पहेल मथुरापुर में एक रैली को संबोधित करते हुए टीमएसी प्रमुख व बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पर जोरदार हमला किया। बंगाल में चुनावी हिंसा का ठिकरा बीजेपी पर फोड़ते हुए ममता ने प्रधानमंत्री पर झूठ बोलने का आरोप लगाया।

कोलकाता में अमित शाह के रोड शो के दौरान भड़की हिंसा के बीच इश्वरचंद्र विद्यासागर की मूर्ति तोड़े जाने का आरोप बीजेपी के मत्थे मढ़ते हुए ममता ने कहा कि मोदी को इतना झूठ बोलने के लिए उठक-बैठक करनी चाहिए। विद्यासागर की मूर्ति तोड़े जाने को लेकर ममता ने मोदी को निशाने पर रखते हुए कहा कि उन्होंने (मोदी) कहा कि वह विद्यासागर की मूर्ति बनवाएंगे। बंगाल के पास मूर्ति बनाने के पैसे हैं। लेकिन क्या वह 200 साल पुराना हेरिटेज लौटा सकते हैं?

मूर्ति तोड़े जाने को लेकर ममता ने साफ शब्दों में कहा कि हमारे पास सबूत है और आप कह रहे हैं कि टीएमसी ने किया है। क्या आपको शर्म नहीं आती है? इतना झूठ बोलने के लिए उन्हें उठक-बैठक करनी चाहिए। साथ ही उन्होंने पीएम को चेतावनी देते हुए कहा कि आरोप साबित करिए नहीं तो मैं आपको जेल भेजूंगी, उन्होंने शाह को भी जेल भेजने की चेतावनी दी। बता दें कि विद्यासागर की मूर्ति तोड़े जाने को लेकर बीजेपी का आरोप है कि ये टीएमसी के गुंडों की करतूत है। ताकि चुनाव में साहनुभूति ली जा सके।

वहीं चुनाव प्रचार की अवधि में कटौती किए जाने से नाराज ममता ने चुनाव आयोग को भी निशाने पर लिया और बीजेपी का भाई करार दे दिया। बता दें कि बंगाल में हिंसा को देखते हुए चुनाव आयोग ने बंगाल में प्रचार की समय-सीमा एक दिन पहले ही खत्म कर दी है। पहले से तय कार्यक्रम के अनुसार अंतिम चरण के लिए चुनाव प्रचार का अंतिम दिन 17 मई की शाम 6 बजे तक था लेकिन अब इसे करीब 19 घंटे पहले 16 मई की रात 10 बजे तक कर दिया गया है।

loading...