Breaking News
  • सोनभद्र जमीन मामले में अब तक 26 आरोपी गिरफ्तार, प्रियंका करेंगी मुलाकात
  • वेस्टइंडीज दौरे के लिए रविवार को 11:30 बजे होगा टीम इंडिया का चयन
  • बिहार : बाढ़ से अब तक 83 लोगों की मौत
  • कर्नाटक में आज दोपहर डेढ़ बजे तक सरकार को साबित करना होगा बहुमत

कोविंद ने पढा पीएम मोदी का पत्र, कहा पुरूषों के बराबर है...

नई दिल्ली : 17वीं लोकसभा का चुनाव संपन्न होने के बाद, संसद के पहले संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बेहद ही शानदार भाषण दिया। राष्ट्रपति का संबोधन राष्ट्रहित में रहा। अपने संबोधन में उन्होंने भारत की गौरवगाथा वाचने के साथ ही सरकार की उपलब्धियां भी गिनवायी.. लेकिन इस दौरान राष्ट्रपति ने कुछ ऐसा भी कहा जिससे ऐसा लगता है जैसे संबोधन भारत के राष्ट्रपति का नहीं बल्कि देश के प्रधानमंत्री का था....

अभूतपूर्व नजारा, घोड़े के टाप पर राष्ट्रपति संसद की ओर बढ़े, जहां उनके स्वागत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और दोनों सदनों के अध्यक्ष मौजूद रहे। संसद के दरवाजे पर पीएम मोदी समेत अन्य सदस्यों ने राष्ट्रपति का अभिवादन किया। सहमे हुए कदमों के साथ राष्ट्रपति ने संसद के सेंट्रल हॉल में प्रवेश किया, जहां सासंद बेसब्री से उनका इंतजार कर रहे थे।

संसद के सेंट्रल को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति ने प्रसन्नता जताई और सभी सांसदों को बधाई दी। साथ ही उन्होंने देश के 61 करोड़ से अधिक मतदाताओं को मतदान प्रकिया को और भी मजबूत बनाने के लिए, दुनिया में भारत के लोकतंत्र की साख बढ़ाने के लिए शुभकामनाएं दी। खास तौर पर राष्ट्रपति ने महिला मतदाताओं और महिला सांसदों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि देश हित में आपका योगदान भी पुरुषों के बराबर रहा।

अब जो राष्ट्रपति ने कहा, उससे ऐसा लगता है जैसे वह प्रधानमंत्री की भाषा बोल रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘इस चुनाव में जनता ने बहुत ही स्पष्ट जनादेश दिया है। सरकार के पहले कार्यकाल के मूल्यांकन के बाद, देशवासियों ने दूसरी बार और भी मजबूत समर्थन दिया है। ऐसा कर देशवासियों ने 2014 से चल रही विकास यात्रा को अबाधित, और तेज गति से आगे बढ़ाने का जनादेश दिया है।

loading...