Breaking News
  • दिवाली तक कम हो सकती हैं पेट्रोल-डीजल की कीमतें- सूत्र
  • रोहिंग्या और रखाइन में शांति की पूरी कोशिश की- म्यंमार की सर्वोच्च नेता आंग सान सू
  • गुरूग्राम: सुरक्षा कारणों से फिर से बंद हुआ रेयान स्कूल, अब 25 सितंबर को खुलेगा
  • संयुक्त राष्ट्र महासभा का 72वां सत्र मंगलवार से- शनिवार को विदेश मंत्री स्वराज का संबोधन

भारत में बुलेट ट्रेन लेकर आ रहे हैं जापानी पीएम!

नई दिल्ली: जापान के प्रधानमंत्री शिंजो अबे बुधवार को भारत दौरे पर आने वाले हैं, अबे के इस दौरे की सबसे खास बात यह है कि वह भारत दौरे के दौरान दिल्ली में नहीं बल्कि गुजरात के अहमदाबाद पहुंच रहे हैं, यहीं पीएम मोदी और शिंजो अबे की मुलाकात होगी, बता दें कि शिंजो अबे दूसरे ऐसे वर्ल्ड लीडर हैं, जो सीधे गुजरात पहुंच रहे हैं, इससे पहले चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने भी भारत दौरे के दौरान गुजरात में ही आगमन किया था।

आपको बता दें कि 13 सितंबर यानी बुधवार को शिंजो अबे गुजरात के अहमदाबाद पहुंचेगे और फिर कई कार्यक्रमों में शामिल होंगे, उन्हीं में से एक बेहद खास कार्यक्रम है बुलेट ट्रेन का नींव रखना, इस दौरान 14 सितंबर को अबे और पीएम मोदी मुंबई से अहमदाबाद के बीच चलने वाली देश की पहली बुलेट ट्रेन की नींव का उद्घाटन करेंगे, बता दें कि बुलेट ट्रेन की योजना पर भारत और जापान में सहमति तब बनी थी, जब पीएम मोदी जापान के दौरे पर गए थे।

आज लगेगी iPhone की झड़ी, एक नहीं कई फोन लॉन्च होने की खबर- जाने 15 खास बातें

इस बुलेट ट्रेन के प्रोजेक्ट में सुरक्षा का खास ख्याल रखते हुए रफ्तार पर जोर दिया जाऐगा, इस प्रोजेक्ट के तहत भारतीय रेल को रफ्तार, सुविधा और क्षमता के क्षेत्र में अपनी नई पहचान मिलेगी, जानकारी के अनुसार इस प्रोजेक्ट पर 80 प्रतिशत खर्च जापान करेगा, मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार जापान इस प्रोजेक्ट के लिए भारत को 88,000 करोड का लोन देगा, जिसको भारत और जापान मिलकर पूरा करेगे यह लोन भारत को 0.1 फीसदी के दर से दिया जायेगा जिसका रीपेमेंट 15 साल के बाद शुरू होगा।

बताया जा रहा है कि इसका ब्याज शुन्य होने के कारण भारत की मौजूदा वित्तीय व्यवस्था पर किसी भी प्रकार का कोई असर नही होगा, इस बुलेट ट्रेन के प्रोजेक्ट से मेक इन इंडिया के प्रोजेक्ट को भी बढ़ावा दिया गया है, भारत और जापान के बीच मेक इन इंडिया और ट्रांसफर ऑफ टेक्नोलॉजी के तहत प्रोजेक्ट साइन किया गया था।

इसके प्रोजेक्ट के तहत चार सब ग्रुप बनाए गए है

इस सब ग्रुप में भारतीय उद्योग, जापानी उद्योग, डीआईपीपी, एनएचएसआरसीएल और जेट्रो के प्रतिनिधि शामिल होंगे, जो मेक इन इंडिया के लिए आवश्यक क्षमताओं की पहचान करने में मदद करेंगे। इस प्रोजेक्ट से जापान के उद्योगपतियों को भारत में निवेश करने का भी मौका मिलेगा जबकि इस प्रोजेक्ट के शुरू होने के बाद भारतीय युवाओं को रोजगार के नए अवसर भी प्राप्त होंगे।

UN ने बंद कराया नॉर्थ कोरिया का सारा व्यापार!

मेक इन इंडिया के जारिए इस प्रोजेक्ट के तहत अधिक से अधिक पैसा देश में निवेश किया जाए और इसे भारत के भीतर ही खर्च किया जाए। यही नहीं बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के जरिए भारत में निर्माण क्षेत्र को भी बढ़ावा मिलेगा और नई तकनीक के साथ निवेश में भी बढ़ावा मिलेगा।

इस प्रोजेक्ट के जरिए कम से कम 20,000 लोगों को निर्माण के दौरान रोजगार मिलेगा, इसी के साथ  हाई स्पीड रेल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट की स्थापना भी वडोदरा में की जाएगी। इस संस्थान में हर तरह की सुविधा होगी, जोकि जापान के ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट में होती है। यह संस्थान 2020 के अंत तक बनकर पूरा हो जाएगा।

loading...