Breaking News
  • कश्मीर घाटी, लद्दाख में कड़ाके की शीतलहर जारी
  • पेट्रोल-डीजल के दाम में बढ़ोतरी, कच्चे तेल में नरमी
  • लोकसभा में सत्ता पक्ष, विपक्ष का हंगामा
  • पर्थ टेस्ट : 146 रन से हारा भारत, आस्ट्रेलिया ने की सीरीज में 1-1 से बराबरी
  • चक्रवाती तूफान Pethai Cyclone आज आंध्र प्रदेश के तट से टकराएगा

सेना-सरकार आमने सामने: रक्षा बजट को लेकर सैन्य अधिकारीयों ने जाहिर की नाराजगी!

नई दिल्ली: भारतीय सेना की उम्मीदों पर केन्द्रीय बजट पहले ही पानी फेर चुका है। वहीँ अब खबरें आ रही है रक्षा अधिकारियों ने संसदीय समिति के सामने बजट को लेकर नाराज़गी जाहिर की है। इससे पहले मंगलवार को ही सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने अर्थव्यवस्था के साथ ही सैन्य क्षेत्र की ओर ध्यान देने की बात कही थी।

बतादें कि जारी खबरों की माने तो सरकार के मौजूदा सेना और रक्षा क्षेत्र को लेकर पास किये गये बजट से भारतीय सेना नाराज है। रक्षा बजट में हुए थोड़े से इजाफे के प्रति भारतीय सेना के वरिष्ठ अधिकारियों ने संसद की स्थायी समिति से नाराजगी जाहिर की है। बताया जा रहा है कि सेना के मॉडल तकनिकी से लैस होने के लिए सरकार का बजट ‘ऊंट के मुंह में जीरा’ माना जा रहाहै। रक्षा अधिकारियों का कहना है कि भारतीय सशस्त्र बलों में अत्याधुनिक हथियारों और पुराने उपकरणों के बीच बड़े असंतुलन को लेकर सरकार का बजट बेहद ही कम है। अभी 30 प्रतिशत स्टेट-ऑफ-द-आर्ट टेक्निकल कैटेगरी, 40 प्रतिशत करेंट कैटेगरी और 30 प्रतिशत विटेंज कैटेगरी के हथियार और उपकरण को लेकर सरका का बजट निराशा जनक रहा है।

SBI ने बंद किये 41 लाख बैंक खाते, आपका भी आ सकता है नंबर

खुशखबरी: अब बैंक खाते में रखना होगा इतना बैलेंस नहीं तो...

सरकार ने सेना के मॉडल होने की उम्मीदों को झटका दिया है। संसदीय समिति के सामने रक्षा अधिकारीयों ने कहा कि 12 लाख जवानों से भी बड़ी इंडियन आर्मी के पास 8% स्टेट-ऑफ-द-आर्ट, 24% करंट और 68% विंटेज कैटिगरी के हथियार हैं। जबकि सेना को पाकिस्तान से लगातार फायरिंग और घुसपैठ का सामना करने के साथ ही डोकलाम के बाद चीन के बढ़ते तनाव का सामना करना पड़ता है। जोकि बहुत ही कम है। यहाँ सेना के उप-प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल सरथ चंद ने संसदीय समिति से नाराजगी जाहिर करते हुए कहा है कि 2018-19 के बजट के दौरान हुई मामूली वृद्धि ने सेना की उम्मीदों पर पानी फेर दिया है।

फूलपुर लोकसभा उपचुनाव: SP-BSP गठजोड़ ने बीजेपी को पछाड़ा

सरकार ने बजट में सेना के आधुनिकीकरण के लिए 21,338 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं। यह रकम सेना के पास पहले से चल रही 125 योजनाओं और डील्स के लिए जरूरी 29,033 करोड़ रुपये की किस्तों के लिए भी पर्याप्त नहीं है। वहीँ सेना को लगातार पाकिस्तान और चीन से चुनौती मिल रही है। पाक की ओर से होने वाली फायरिंग आदि से मुद्दे पर सरकार ने सेना को एक तरीके से झटका दिया है। इससे पूर्व मंगलवार को ही सेना प्रमुख अर्थव्यवस्था के साथ साथ सैन्य क्षेत्र की ओर भी ध्यान देने को कहा था।

यह भी देखें-

loading...