Breaking News
  • टेररिस्तान, आतंक के लिए करता है अपनी सरजमीं का इस्तेमाल- भारत
  • पाकिस्तानी आतंकवाद पर भारत ने UNGA में दिया करारा जवाब कहा
  • पाकिस्तान ने पहली बार कुबूले घुसपैठियों के शव
  • पीएम नरेंद्र मोदी दो दिनों के वाराणसी दौरे पर
  • कोलकाता वनडे: भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 50 रनों से हराया, 2-0 से आगे

बारूद के ढेर के समान हैं रोहिंग्या: भारत का UN को कड़ा जवाब

नई दिल्ली: रोहिंग्या मुस्लिमों को लेकर संयुक्त राष्ट्र द्वारा भारत की निंदा किये जाने पर मंगलवार को भारत ने संयुक्त राष्ट्र को उसी की भाषा में जवाब दिया है। भारत ने कहा कि एक घटना से किसी देश पर टिप्पणी करना शोभा नहीं देता, साथ ही रोहिंग्या मुसलमानों का मामला भारत की सुरक्षा से जुड़ा है।

बतादें की भारत में शरण लिए म्यांमार से आये रोहिंग्या मुसलमानों पर भारत के सख्त रुख को लेकर संयुक्त राष्ट्र ने भारत के बर्ताव की निंदा की थी, जिसपर संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थाई सदस्य राजीव  चंदर ने संयुक्त राष्ट्र को खरी खरी सुनाई है। गौरक्षकों के हमले और पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या पर संयुक्त राष्ट्र में मानव अधिकारों से जुड़ी संस्था की टिप्पणी पर भारत के प्रतिनिधि ने असहमति व्यक्त करते हुए कड़े शब्दों में जवाब देते हुए कहा कि कि किसी एक घटना के आधार पर देश के सामाजिक हालात पर टिप्पणी करना बेहद दुर्भाग्य पूर्ण है। और भारत इस टिप्पणी से आहात महसूस कर रहा है।

मालूम हो कि सयुंत राष्ट्र उच्चायुक्त में जीद राद अल हुसैन ने कहा था कि मैं ऐसे समय में रोहिंग्या मुसलमानों को उनके देश वापस भेजे जाने के लिए भारत द्वारा उठाए जा रहे कदमों की कड़ी निंदा करता हूं, जब उनके देश (म्यांमार) में उन पर जुल्म हो रहे हों। अल हुसैन ने कहा था कि रोहिंग्या मुसलमान जो भारत में शरण लिए हैं उनके पास संयुक्त राष्ट्र का पत्र है, उसके बाद भी भारत उन्हें वापस भेज रहा है। वहीं भारत इस मामले में साफ़ कहता आ रहा है कि यह उसकी सुरक्षा का मामला है।

प्रद्युम्न मर्डर: पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुआ बड़ा खुलासा

इनसाइड स्टोरी: जानिए पंड्या-परिणीति के बीच अफेयर की पूरी सच्चाई

भारत कानूनी तरीके से रोहिंग्या मुसलमानों को वापस भेजेगी। इस संबंध में भारत ने सभी राज्यों को निर्देश भी जारी कर दिया है। ज्ञात हो कि भारत में म्यांमार से अवैध तरीके से करीब 40 हजार रोहिंग्या मुसलमान घुस आये हैं। जिसमें 16 हजार के पास संयुक्त राष्ट्र का पत्र है। वहीँ रोहिंग्या मुसलमानों की गतिविधियाँ आतंकिओं जैसी है। रोहिंग्या मुसलमानों का संपर्क अरब देशों के आतंकी संगठनों से हैं। ऐसे में भारत में बसे 40 हजार रोहिंग्या बारूद के ढेर के समान हैं।

यह भी देखें-         

loading...