Breaking News
  • मंदी से निपटने के लिए सरकार ने किए बड़े ऐलान, ऑटो सेक्टर को होगा उत्थान
  • तीन देशों की यात्रा के दूसरे चरण में यूएई की राजधानी आबू धाबी पहुंचे मोदी
  • देश भर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं
  • 1st Test Day-2: भारत की पहली पारी 297 रनों पर सिमटी, रवींद्र जडेजा ने बनाए 58 रन

भारत ने खोया एक और दिग्गज नेता, दी थी पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को टक्कर

नोएडा : भारत के राजनीतिक जगत ने एक बार अपने एक अहम नेता को रविवार तड़के खो दिया। जिससे पूरे राजनीति जगत में शोक की लहर दौड़ गई है। इस दिग्गज नेता के मौत के बाद विभिन्न पार्टियों के नेताओं की तरफ से श्रद्धांजली देने का तांता लग गया है। बता दें कि वे नेता हैं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री एस. जयपाल रेड्डी। जिनका रविवार तड़के निधन हो गया। उनके निधन की जानकारी इनके परिवार वालों ने दिया है।

बता दें कि रेड्डी पिछले कुछ दिनों पहले ही अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जिससे उनका इलाज हो सकें। आपको बता दें कि 77 वर्षीय रेड्डी निमोनिया से पीड़ित थे, जिन्हें इलाज के लिए हैदराबाद में एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जिन्होंने 27 जुलाई को रात लगभग 1.30 बजे यानी 28 जुलाई को अंतिम सांस ली।

आपको बता दें कि रेड्डी का जन्म तेलंगाना के महबूबनगर में हुआ था और वे पांच बार लोकसभा में निर्वाचित हुए थे और दो बार राज्यसभा सदस्य भी बन चुके थे।

उन्होंने उस्मानिया विश्वविद्यालय के छात्र होने के दौरान से ही अपने राजनीतिक जीवन की शुरूआत की। बता दें कि कांग्रेस द्वारा आपातकाल लगाए जाने के विरोध में उन्होंने उन्होंने कांग्रेस छोड़ दी और जनता पार्टी में शामिल हो गए। बाद में वो इसके महासचिव भी बनें। इस दौरान रेड्डी ने 1980 में मेडक लोकसभा सीट पर पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के खिलाफ चुनाव भी लड़ा, हालांकि वे हार गए।

आपको बता दें कि रेड्डी इंद्र कुमार गुजराल की सरकार में सूचना एवं प्रसारण मंत्री एवं संप्रग-1 और संप्रग-2 सरकारों में भी मंत्री रहें। इसके अलावा उन्होंने नगर विकास एवं संस्कृति, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस, विज्ञान और प्रौद्योगिकी तथा भू विज्ञान मंत्रालय जैसे पदों को भी सुशोभित किया।

अगर हम रेड्डी के परिवाक की बात करें तो रेड्डी के परिवार में एक बेटी और दो बेटे हैं। आपको बता दें कि कुछ दिनों पहले ही भारत ने दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस नेता शीला दीक्षित और बिहार के समस्तीपुर से सांसद और लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के वरिष्ठ नेता रामचंद्र पासवान को खोया था, अभी इन क्षतियों से भारत उबरा भी नहीं था कि एक और अपूर्ण क्षति का होना भारतीय राजनीतिक जगत के लिए सदमे की बात है।

loading...