Breaking News
  • केरल उच्च न्यायालय ने क्रिकेटर एस श्रीसंत पर लगाए गये आजीवन प्रतिबंध को बहाल किया
  • जम्मू-कश्मीर में सीमा पर पाकिस्तानी सेना की गोलीबारी में 4 नागरिक घायल
  • आज से शुरु हो रही है कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना की बैठक
  • कार सवार बदमाशों ने हरियाण की प्रसिद्ध लोक गायिका हर्षिता चौधरी हत्या की

हरियाणा मामला: बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ और फिर ‘छेड़छाड़’ करवाओ?

चंडीगढ़: हरियाणा में बीजेपी का यही हाल है। कांग्रेस ने कहा कि एक छेड़छाड़ के आरोपी को बचाने के लिए केंद्र से लेकर राज्य सरकार ने पूरी सरकारी मशीनरी को लगा दिया। भैया जब मामला ही बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष के बेटे का हो तो क्यों लगाया जायेगा।

देशभर में छेड़छाड़, बलात्कार आदि पर देश की बड़ी पार्टी और सत्ताधारी दल बीजेपी का बड़ा सच सामने आ गया है। एक ओर यूपी जैसे राज्य में स्कूल के बाहर खड़े भर होने पर योगी की पुलिस आपको रोमियो बताकर जेल में ठूंस देगी, वहीँ दूसरी और हरियाणा बीजेपी अध्यक्ष सुभाष बराला का अय्याश बेटा एक सीनियर अधिकारी की बेटी का कई किलो मीटर तक पीछा करता है, हालात ऐसे हो जाते हैं उस लडकी को फेसबुक पर अपनी आपबीती लिखकर बतानी होती है कि वह खुशनसीब है कि उसकी लाश किसी नाले में नहीं पड़ी मिली। सत्ता की हनक में बीजेपी का दोहरा मापदंड खुलकर सामने आ गया है। वहीँ अब पूरे मामले पर बीजेपी में ही दो दो धड़े हो गये हैं।

मामले को लेकर बीजेपी में भी आवाज उठने लगी है। जहां बीजेपी के एक सांसद ने सुभाष बराला को नैतिकता के आधार पर हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष के पद से इस्तीफा देने के लिए कहा है। वहीं बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने आरोपियों को नशे में धुत गुंडा बताया ओर कहा कि वह PIL दाखिल करेंगे। वहीँ हरियाणा से आने वाले बीजेपी सांसद राजकुमार सैनी ने कहा है कि बराला को तुरंत इस मामले में इस्तीफा देना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी ने ही बेटी बचाओ, बेटी पढाओ का नारा दिया है।

वहीँ इस मामले पर कांग्रेस ने बड़ा आरोप लगाया है कि आरोपी को बचाने के लिए गृहमंत्रालय हस्तक्षेप कर रहा है। बीजेपी और देश के पीएं नरेन्द्र मोदी को आपने अक्सर सुना होगा, कि बेटी बचाओ और बेटो पढाओ, बेटियों को आगे बढ़ाने के लिए पीएम मोदी कितना कुछ प्रयास करते हैं, लेकिन उनकी ही पार्टी के कुछ नेता उनके इस प्रयास पर पानी फेरने में लगे हैं। हरियाणा के हाई प्रोफाइल मामले को दवाने के लिए पूरे सरकारी तंत्र को लगा दिया गया है, तो सवाल उठता है कि आम आदमी की बेटी के साथ अगर कुछ होता तो शायद मामला प्रकाश में भी न आता। 

loading...