Breaking News
  • मालेगांव: 7 फरवरी को तय हो सकते हैं साध्वी प्रज्ञा, पुरोहित के खिलाफ आरोप
  • इराक की राजधानी बगदाद में एक साथ हुए दो आत्‍मघाती बम हमलों में 38 लोगों की मौत
  • अफगानिस्तान से बर्मा तक, तिब्बत से श्रीलंका तक सबका डीएनए एक: भागवत
  • काबुल: भारतीय दूतावास में गिरा रॉकेट, किसी के हताहत होने की कोई ख़बर नहीं

सदी का सबसे बड़ा घोटाला है नोटबंदी- दो तरह के नोटों पर मचा बवाल

नई दिल्ली: आज मंगलवार को भी संसद में भारी हंगामा देखा गया जिसके कारण कई बार सदन की कार्यवाही भी स्थगित करनी पड़ी। दरअसल लोकसभा में आज कांग्रेस सदस्यों नें राहुल गांधी पर हुए हमले को लेकर जमकर हंगामा किया तो राज्यसभा में दो तरह के नोटों की छपाई को लेकर भारी हंगामा हुआ।

सदन की कार्यवाही शुरू होते ही कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने आरोप लगाया कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया 500 रुपये के दो तरह के नोटों की छापई कर रही है। उन्होंने सदन में दो अगल-अलग नोटों को दिखाते हुए कहा कि RBI दो तरह के नोटों की छपाई कर रही है, जिसके साइज और डिजाइन भी अलग-अलग है, ये कैसे संभव है?

इसके तुरंत बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि नोटबंदी/विमुद्रीकरण 'इस सदी का सबसे बड़ा घोटाला है', तो वहीं इस मसले पर तृणमूल कांग्रेस, जनता दल-यूनाईटेड, और समाजवादी पार्टी के साथ-साथ अन्य दलों ने भी कांग्रेस का साथ दिया।

हालांकि इन सभी सवालों के जवाब में सरकार की ओर से सदन के नेता अरुण जेटली ने विपक्ष पर आरोप लगते हुए कहा कि विपक्ष प्रति दिन ‘बेकरा’ के मुद्दे उठाती रहती है। सरकार के मंत्रियों ने इस मुद्दे को शून्य काल के दौरान उठाए जाने का कड़ा विरोध किया। बता दें कि भारी हंगामा होता देख सदन को 10 मिनट के लिए स्थगित कर दिया गया।

लेकिन इसके बाद जब फिर से कार्यवाही शुरू हुई तो कांग्रेस और सहयोगी सदस्य सरकार विरोधा नारे लगाते हुए सभापति के आसन तक जा पहुंचे।  इस दौरान सरकारी की ओर से राज्यमंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि अगर विपक्ष इस मसल पर चर्चा चाहती हैं तो इसके लिए नोटिस दे सकते हैं, हालांकि इसके बाद भी हंगामा जारी रहा, इसके बाद सदन की कार्यवाही फिर से स्थगित कर दी गई।

loading...