Breaking News
  • गुजरात: 44 बिल्डर्स और फाइनेंसरों के कई ठिकानों पर आयकर विभाग के छापे
  • सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की वार्षिक समीक्षा बैठक में वित्त मंत्री, कर्ज देने की प्रक्रिया को ईमानदार बनाएं बैंक
  • उत्तर भारत में मौसम का कहर जारी, हिमाचल में 3 की मौत, बादल फटने से मची तबाही
  • भारत-पाक विदेश मंत्रियों की वार्ता रद्द होने के बाद सार्क बैठक पर संकट

क्या आप रोहिंग्‍या मुसलमान पर इस फैसले से सहमत हैं- जाने आज SC में क्या हुआ...

नई दिल्ली: अपने देश म्यांमार में अपना आशियाना खो चुके लाखों की संख्या में रोहिंग्‍या मुसलमान याशरणार्थी दुनिया के कई अलग-अलग देशों में अपना नया ठिकाना तलाश रहे हैं, उनमें से एक देश भारत भी है, जहां रोहिंग्‍या शरणार्थियों को लेकर पिछले लंबे समय से बहस जारी है।

इस बीच रोहिंग्‍या शरणार्थियों को भारत आने दिया जाए नहीं आने दिया जाए, इसी मसले पर बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार की ओर से कहा गया कि किसी भी शरणार्थी को देश से बाहर नहीं किया है। सरकार के अनुसार ऐसी कोई परिस्थिति पैदा नहीं हुई है जिससे कि मामले में सुप्रीम कोर्ट को कोई आदेश जारी करना पड़े।

शाहरुख खान का अलीबाग वाला फार्महाउस जब्त- IT ने दिया जोर का झटका

सरकार ने कहा कि कार्यपालिका अपने सांविधानिक दायित्‍वों का निर्वहन कर रही है और इस मामले में कूटनीतिक पहल भी जारी है। सरकार के इस जवाब पर कोर्ट ने कहा कि उम्मीद है कि कोई भी हिंग्‍या शरणार्थी देश से बाहर नहीं निकाले गए हैं।

क्या भारत के मुसलमान को अपना एक अलग देश चाहिए...

कोर्ट ने कहा कि इस बात का फैसला वे बाद में करेंगे कि जो देश में घुसने की कोशिश कर रहे हैं उन्‍हें वापस भेजा जाए या नहीं, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से अन्‍य शरणार्थियों को वापस भेजे जाने के संबंध में भेजी गई एप्‍लीकेशन का जवाब देने को कहा है।

VIDEO- पहल: ये क्यूट बिटीया किसकी है- किसी को पता है तो बताएं...

इसके साथ ही कोर्ट ने मामले की अगली सुनवाई 7 मार्च को तय की है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार वकील प्रशांत भूषण ने नई अर्जी दाखिल कर कोर्ट से मांग की किया कि म्यांमार से भारत आ रहे लोगों को न रोका जाए। वकील ने आरोप लगाया कि उन्हें घुसने से रोकने के लिए BSF बल का प्रयोग कर रही है।

loading...