Breaking News
  • नमो एप के जरिए पीएम मोदी ने की सौभाग्य योजना के लाभार्थियों से बात
  • उत्तराखंड: टेहरी जिले में चम्बा-उत्तरकाशी मार्ग पर बस खाई में गिरी, 10 की मौत, तई घायल
  • आडवाणी के करीबी चंदन मित्रा ने बीजेपी से दिया इस्तीफा, टीएमसी में हो सकते हैं शामिल
  • ग्रे. नोएडा बिल्डिंग हादसे में अबतक 8 की मौत, अथॉरिटी प्रोजेक्ट मैनेजर समेत 3 सस्पेंड

गोडसे ने की थी गांधी की हत्या, जांच की जरूरत नहीं- जाने क्या है चौथी गोली की थ्योरी...

नई दिल्ली: राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की हत्या नाथूराम गोडसे ने ही की थी, इस मामले में अब दूबार जांच की जरूरत नहीं हैं। दरअसल ये बात भारत के पूर्व सॉलिसिटर जनरल और एमिकस क्यूरी अमरेंद्र शरण द्वारा सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में दाखिल किए गए रिपोर्ट के हवाले से कहा जा रहा है।

रिपोर्ट के अनुसार बापू की हत्या के मामले में नए सिरे से जांच नहीं होगी, क्योंकि एमिकस क्यूरी ने कहा कि बापू की हत्या में जिस बुलेट थ्योरी की बात की जा रही है, उसके कोई सबूत नहीं मिले हैं। बता दें कि इससे पहले मामले में ऐसी बात की जाती रही है कि गांधी की हत्या नाथूराम गोडसे के अलावा किसी और ने की थी।

संजय दत्त के लिए माउथवॉश था शराब- हर समय हीरोइन के...

इस रिपोर्ट के अनुसार बताया जा रहा है कि जिस चौथी गोली की थ्योरी की बात की जा रही है, वो किसी भी तरह साबित नहीं होती है, इससे जुड़ा कोई भी साक्ष्य नहीं मिले हैं। आपको बता दें कि देश की सबसे बड़ी अदालत के निर्देश पर एमीकस क्‍यूरी ने 4,000 पन्नों की ट्रायल कोर्ट की रिपोर्ट और साल 1969 की जीवन लाल कपूर इंक्वायरी कमीशन की रिपोर्ट के आधार पर अपनी रिपोर्ट तैयार की है।

आपको बता दें कि साल 1948 में हुए महात्मा गांधी हत्याकांड को लेकर एक एनजीओ 'अभिनव भारत' के पंकज फड़णीस ने कोर्ट में याचिका दायर करते हुए ऐसा दावा किया था कि बापू की हत्या एक रहस्यमय शख्स ने की है, जिसने 'चौथी गोली' चलाई थी। इसके साथ ही इस याचिका में यह भी दावा किया गया है कि वह शख्स कभी पकड़ा ही नही गया।

सैफ की बेटी सारा का प्राइवेट VIDEO हुआ वायरल!

याचिका में इस तरह के दावे करते हुए याचिकाकर्ता ने मामले में फिर से जांच की मांग की थी, जिसके बाद इस मामले पर गहन विचार करने से पहले जस्टिस एस. ए. बोबडे और जस्टिस एल. नागेश्वर राव की बेंच ने 7 अक्टूबर 2017 को अमरेंद्र शरण को एमिकस क्यूरी नियुक्त करते हुए कहा था वो महात्मा गांधी हत्याकांड से जुड़े दस्तावेजों की जांच करें।

जिसके बाद आज सोमवार को जांच की रिपोर्ट पेश की गई है, जिसमें इस तरह के दावों को खारिज किया जा रहा है। आपको बता दें कि महात्मा गांधी की हत्या 30 जनवरी 1948 की शाम को दिल्ली स्थित बिड़ला भवन में गोली मारकर की गई थी। बता दें कि बापू यहां रोज शाम को प्रार्थना करने आया करते थे। इस बीच 30 जनवरी की शाम नाथूराम गोडसे ने पहले बापू को प्रणाम किया और फिर सामने तीन गोली दाग दी।

VIDEO: वोट मांगने की सजा- शिवराज के राज में BJP उम्मीदवार को पहना दिया जूतो का हार...

बापू के हत्या के मामले गोडसे समेत आठ लोगों को साजिश रचने के मामवले में आरोपी बनाया गया, जिनमें से तीन आरोपी शंकर किस्तैया, दिगम्बर बड़गे, वीर सावरकर को सरकारी गवाह बनने के कारण बरी कर दिया गया था। लेकिन मामले में 10 फरवरी, 1949 को गोडसे और आप्टे को मौत की सजा सुनाई गई। इसके बाद 21 जून, 1949 को गोडसे और आप्टे की मौत की सजा की पुष्टि पूर्वी पंजाब हाई कोर्ट ने की और जिसके बाद 15 नवंबर, 1949 को अंबाला जेल में फांसी दी गई थी।

loading...