Breaking News
  • मंदी से निपटने के लिए सरकार ने किए बड़े ऐलान, ऑटो सेक्टर को होगा उत्थान
  • तीन देशों की यात्रा के दूसरे चरण में यूएई की राजधानी आबू धाबी पहुंचे मोदी
  • देश भर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं
  • 1st Test Day-2: भारत की पहली पारी 297 रनों पर सिमटी, रवींद्र जडेजा ने बनाए 58 रन

‘कश्मीर में जो हो रहा, पहले कभी नहीं हुआ’

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 35ए हटाए जाने की अफवहों के बीच सरकार द्वारा जारी एक एडवाइजरी पर कश्मीर से दिल्ली तक सियासी पारा उबाल मार रहा है। राज्य की मौजूदा हालातों पर पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ति और उमर अब्दुल्ला के बाद अब कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद ने भी सरकार पर तीखा हमला बोला है।

जम्मू कश्मीर में अचानक अमरनाथ यात्रा रोके जाने और जवानों की तैनाती बढ़ाए जाने को लेकर सूबे में सियासी हलचल तेज हो गई है। केंद्र के एक्शन पर कांग्रेस के अलावा पीडीपी और नेशनल कॉन्फ्रेंस हैरान हैं। इसी को लेकर शुक्रवार को महबूबा मुफ्ती राज्यपाल से मिलीं तो शनिवार को उमर अब्दुल्ला ने सत्यपाल मलिक से मुलाकात कर आशंकाओं को दूर करने की कोशिश की।

मामले पर जारी सियासी संग्राम के बीच दिल्ली में मीडिया से बात करते हुए आजाद ने भी बयानों के बैछार से मोदी सरकार का कलेजा छल्लनी कर दिया। पूर्व की सरकारों को याद करते हुए आजाद ने कहा कि अतीत में, मनमोहन सिंह, अटल बिहारी वाजपेयी, नरसिम्हा राव के शासन में भी ऐसा कभी नहीं हुआ कि तीर्थयात्रियों को वापस घर लौटने के लिए कहा गया....

इस पूरे मामले पर आजद नें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बयान की अपील करते हुए कहा कि, ऐसी स्थिति अभूतपूर्व है। सरकार जो कुछ कश्मीर में कर रही है, उसे राज्यों के चुनावों में भुनाना चाहती है। वहीं कश्मीर की हालत पर चिंता जाहिर करते हुए आजाद ने कहा कि राज्य में जो भी जो हो रहा है, वह हम सभी के लिए बेहद चिंताजनक है। 

loading...