Breaking News
  • बिहारः मुठभेड़ में खगड़िया के पसराहा थाना अध्यक्ष आशीष कुमार सिंह शहीद
  • J-K: पुलवामा में सुरक्षा बलों ने हिजबुल के एक आतंकी को मार गिराया
  • दिल्ली में आज पेट्रोल की कीमत 82.66 रुपए प्रति लीटर, डीजल 75.19 रुपए प्रति लीटर
  • J-K:स्थानीय निकाय चुनाव के लिए तीसरे चरण की वोटिंग जारी

RSS के बाद अब इस पार्टी ने भेजा प्रणब को न्यौता, क्या होंगे शामिल?

नई दिल्ली: आरएसएस के शिक्षा वर्ग में मुख्य अतिथि बनने के बाद अब पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को एक और बड़ी पार्टी ने अपने ख़ास कार्यक्रम में आमंत्रित किया है। जिसके बाद सवाल उठने लगा है कि क्या पूर्व राष्ट्रपति प्रणब दा उस पार्टी के कार्यक्रम में शामिल होगे।

बतादें कि अभी तक पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में शामिल होने का मामला ठंडा अभी नहीं हुआ था कि अब कांग्रेस पार्टी ने ही उन्हें इफ्तार पार्टी में शामिल होने के लिए निमंत्रण भेजा है। बताया जा रहा है कि सोमवार को कांग्रेस पार्टी ने उन्हें आयोजित होने वाली इफ्तार पार्टी का निमंत्रण भेजा है। इससे पहले खबरें आ रहीं थी कि कांग्रेस ने उन्हें आरएसएस के कार्यक्रम में शामिल होने के बाद पार्टी की ओर से आयोजित होने वाली इफ्तार पार्टी का निमंत्रण नहीं दिया है।

बड़ी खबर: राष्ट्रपति ट्रंप ने किम को दिया वाइट हाउस आने का न्यौता, साथ में किया लंच

हालाँकि शाम होते होते साफ़ हो गया है कि कांग्रेस प्रमुख राहुल गांधी ने खुद पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को पार्टी की ओर से आयोजित की जा रही इफ्तार पार्टी में शामिल होने का न्यौता दिया था। जिसे उन्होंने स्वीकार भी कर लिया है। दरअसल कांग्रेस पार्टी की इफ्तार पार्टी का आयोजन संघ के मुख्यालय नागपुर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के कार्यक्रम के कुछ ही दिन बाद आयोजित हो रही है।

ट्रंप-किम: 60 सालों की दुश्मनी पर भारी पड़ी 45 मिनट की मुलाकात!

जिसको लेकर कयास लग रहे थे कि शायद कांग्रेस ने इसी कारण पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को इफ्तार पार्टी में नहीं बुलाया है। हालाँकि अब राहुल ने खुद ही पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और पुर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी को भी इफ्तार का निमंत्रण भेजा है। आपको मालूम हो कि पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी 7-8 जून को संघ ने नागपुर मुख्यालय में मौजूद रहे थे। इसे दौरान उन्होंने संघ स्वयंसेवकों को संबोधित कर नेहरु-गांधी का राष्ट्रवाद पढ़ाया था।

यह भी देखें-

loading...