Breaking News
  • अंडमान के हैवलॉक द्वीप पर 800 टूरिस्टं फंसे, नेवी का रेस्यूंद्र ऑपरेशन
  • राज्यसभा और लोकसभा में नोटबंदी पर हंगामा
  • श्रीहरिकोटा: सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से दूरसंवेदी उपग्रह RESOURCESAT-2A का सफल प्रक्षेपण

जेटली ने कहा: पुराने नोट बंद होने से परेशान न हो जनता, इसके लॉन्ग टर्म फायदे होंगे

नई दिल्ली:  भारत सरकार द्वारा 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों के बंद कर 500 और 2000 के नए नोट जारी करने के बाद लोगों में जल्द से जल्द अपने पुराने नोट बदलने की होड़ मची है, और इस क्रम में बैंकों में भारी भीड़ देखी जा रही है। लोगों को काफी परेशानियों का सामना भी करने पड़ रहा है।

इन सभी परेशानियों को देखते हुए देश के वित्त मंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को पीसी कर देश की जनता को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि जिन लोगों के पास ज्यादा अघोषित संपत्ति है उन्हें टैक्स लॉ के तहत कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा, लेकिन जिन लोगों के पास अघोषित संपत्ति नहीं है उन्हें इस व्यवस्था से घबराने की कोई जरूरत नहीं है।

उन्होंने कहा कि इमानदार लोगों के पास अपने पैसे बदलने के लिए काफी समय है, और इसके लिए वीकेंड पर भी बैंक खुले रहेंगे। जेटली ने कहा कि हम यह सुनिश्चित करने की कोशिश कर रहे हैं कि लोगों को जरूरत के अनुसार फिलहाल करेंसी उपलब्ध हो जाए।

उन्होंने कहा कि इसके लिए जल्दबाजी की कोई जरूरत नहीं है, जो कम राशि जमा कर रहे हैं, उन्हें परेशान होने की भी जरूरत है। उन्होंने कहा कि सीमा के तहत रकम जमा करने वालों से कोई पूछताछ नहीं की जाएगी, लेकिन बड़ी राशि जमा कराने वालों से पूछताछ की जा सकती है।

वित्त मंत्री ने कहा कि इस नई व्यवस्था से थोड़ी परेशानी होगी, लेकिन इसका फायदा हमें लॉन्ग टर्म के लिए होगा। उन्होंने कहा कि 500 और 1,000 रुपये के नोट बंद होने से लोगों के खर्च करने के तरीकों में भी अब बदलाव आएगा। तो वहीं वित्त सचिव शक्तिकांत दास ने बताया कि कुछ महीनों में ही नए रंग और नए डिजाइन के साथ नोट वापस आएगा।