Breaking News
  • सोनभद्र जाने पर अड़ी प्रियंका गांधी, धरने का दूसरा दिन
  • असम और बिहार में बाढ़ से 150 लोगों की गई जान, 1 करोड़ से अधिक लोग प्रभावित
  • इलाहाबाद हाइकोर्ट ने पीएम मोदी को जारी किया नोटिस, 21 अगस्त को सुनवाई
  • कर्नाटक पर फैसले के लिए अब सोमवार का इंतजार

हड़ताल खत्म करने के लिए डॉक्टरों ने ममता के सामने रखी ऐसी शर्त!

कोलकाता: पश्चिम बंगाल में छह दिन बाद डॉक्टरों की हड़ताल खत्म होने के आसार दिख रहे हैं। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की अपील के बाद जूनियर डॉक्टर्स बातचीत के लिए तैयार हो गए हैं। हालांकि मिलने की जगह और वक्त अभी तय नहीं हुआ है। ममता की अपील के बाद जूनियर डॉक्टर सशर्त वार्ता के लिए तैयार हो गए हैं। जूनियर डॉक्टरों का कहना है कि हम सूबे की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ बातचीत और चर्चा करना चाहते हैं। लेकिन इस बैठक की जगह हम तय करेंगे।

डॉक्टरों के अनुसार, ममता बनर्जी ने हमें बंद कमरे में बैठक करने के लिए बुलाया है, लेकिन हम बंद कमरे में उनके साथ बैठक कैसे कर सकते हैं, क्योंकि इस लड़ाई में पूरा राज्य हमारे साथ है। डॉक्टरों का कहना है कि यह मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के लिए अहंकार की लड़ाई बन चुकी है, लेकिन हमारे लिए यह अस्तित्व की लड़ाई है। डॉक्टरों ने कहा, 'हम चाहते हैं कि जिन जूनियर डॉक्टर पर हमला किया गया, उनसे सीएम ममता बनर्जी मुलाकात करें। यह कोई अचानक हमला नहीं था, बल्कि सुनियोजित तरीके से किया गया हमला था’।

उनका कहना है कि पूरे राज्य में 230 से ज्यादा बार डॉक्टरों पर हमले हुए, लेकिन ममता बनर्जी कहती हैं कि डॉक्टरों पर होने वाले हमले के 99 फीसदी मामलों को संजीदगी से देखा जाता है और कार्रवाई की जाती है। दरअसल, हड़ताली डॉक्टर्स ने सीएम ममता बनर्जी से सचिवालय में जाकर मुलाकात करने से इनकार कर दिया है। वहीं ममता बनर्जी ने कहा कि अगर वो सीएम से बात नहीं कर सकते तो राज्यपाल से ही बातचीत कर लें। अब डॉक्टर्स तय करेंगे कि वह मुख्यमंत्री या राज्यपाल में से किससे मिलकर बातचीत करेंगे।

आपको बता दें कि बंगाल में जारी सियासी हिंसा के बीच दो जुनियर डॉक्टर्स की पिटाई से नाराज डॉक्टर्स प्राप्य सुरक्षा की मांग कर रहे हैं। वहीं हड़ताली डॉक्टरों को देश के अन्य शहरों के डॉक्टर्स का भी साथ मिल रहा। दिल्ली, मुंबई समेत देश के अन्य हिस्सों में डॉक्टर्स हिंसा का के खिलाफ सड़क पर उतर रहे हैं। वहीं डॉक्टर्स की हड़ताल के कारण बंगाल में मेडिकल सेवाएं पूरी तरह से ठप पड़ी है। समय पर इलाज नहीं मिलने के कारण कई मरीजों की मौत भी हो चुकी है।

loading...