Breaking News
  • अंडमान के हैवलॉक द्वीप पर 800 टूरिस्टं फंसे, नेवी का रेस्यूंद्र ऑपरेशन
  • राज्यसभा और लोकसभा में नोटबंदी पर हंगामा
  • श्रीहरिकोटा: सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से दूरसंवेदी उपग्रह RESOURCESAT-2A का सफल प्रक्षेपण

नए नोटों पर RBI गवर्नर के हस्ताक्षर से मेल नहीं खाते है मोदी के बयान!

मध्यप्रदेश/इंदौर: देश में 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों पर बैन कर मोदी सरकार ने 500 और 2000 के नए नोटों को बाजार में जारी किया। लेकिन पुराने नोटों को बदलने में लोगों को हो रही परेशानियों को लेकर सरकार विरोधियों के निशाने पर है।

इस क्रम में कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और मध्यप्रदेश प्रभारी मोहन प्रकाश ने पीएम मोदी के उस दावे पर सवाल खड़े किए है, जिसमें उन्होंने कहा था कि नए नोटों की छपाई की प्रक्रिया 6 महीने पहले ही शुरू कर दी गई थी।

मोदी के इस बयान को लेकर मोहन प्रकाश का आरोप है कि यदी मोदी की यह बात सही है तो फिर नए नोटों पर रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल के दस्तखत कैसे हैं। क्योंकि उन्होंने तो सितंबर 2016 में ही आरबीआई गनर्नर की जिम्मेदारी संभाली है।

उन्होंने मोदी सरकार के इस फैसले को लेकर कहा कि काले धन वाले तो मोदी के साथ विदेश यात्रा कर रहे है, और इस फैसले के कारण देश की जनता को परेशानी उठानी पड़ रही है।