Breaking News
  • नहाय खाय के साथ प्रकृति और सूर्य की उपासना का पर्व छठ पूजा शुरू
  • लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर आज वायु सेना का पहला अभ्यास
  • चीन की कम्युनिस्ट पार्टी ने राष्ट्रपति XiJinping के अगले पांच सालों के कार्यकाल को सहमति दी
  • आज पूरा विश्व मना रहा है United Nations Day, प्रथम विश्वयुद्ध के बाद 1929 में हुआ था गठन

लालू के बेटे की गुंडागर्दी पर भारी पड़े मीडिया दिग्गज, अर्नब गोस्वामी ने लगाई लताड़

पटना: बुधवार को लालू यादव के बेटे और बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव द्वारा मीडिया के साथ किये गये बर्ताव का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। मीडियाकर्मियों पर हमले की चौतरफा निंदा हो रही है। कई बड़े दिग्गज पत्रकारों ने इसे लोकतंत्र का गला घोटने जैसा बताया है।

लालू बिहार में जंगल राज के जनक लालू यादव और उनका घोटालेबाज, भ्रष्टाचारी परिवार का रंग एकबार फिर से दिखाई देने लगा है। कभी लालू ने अपने शासनकाल में बिहार को मिटटी में मिलाने की साजिश चली थी, वहीँ एकबार फिर से सत्ता में आने के बाद उसे दोहराने की रणनीति बना रहे हैं। बिहार विधानसभा में चुनाव में लम्बे समय बाद लालू यादव को जनादेश दिया तो लालू ने फिरसे बिहार को बर्बाद करने की ठान ली।

लालू परिवार के सत्ता में आने के बाद से ही लगातार उनर भ्रष्टाचार और घोटालों की कलई खुल रही है। ऐसे में लालू परिवार आवाज उठाने वाले लोगों की लगा घोटने की पूरी कोशिश में लगा हुआ है। बुधवार को तेजस्वी यादव कैबिनेट की बैठक से बाहर निकल रहे थे। उसी मीडियाकर्मियों ने तेजस्वी से इस्तीफे से जुड़ा सवाल कर दिया जिससे तेजस्वी यादव के सुरक्षा गार्ड और समर्थक भड़क उठे और मीडियाकर्मियों से हाथापाई करने लगे। हाथापाई काफी देर तक चली रही।

लालू के गुंडे बेटे तेजस्वी यादव के समर्थ मीडियाकर्मियों को बेरहमी से पीटने लगे, और यह सब राज्य के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव के सामने ही हुआ, दरअसल यह हमला तेजस्वी यादव की ही सह पर हुआ था। वहीँ मीडिया पर लालू के गुंडों द्वारा किये गये हमले को लेकर लगातार विरोध जारी है, कई पार्टियों ने इस हमले की कड़े शब्दों में निंदा की है। वहीँ मीडिया जगत भी इस हमले से सन्न है कि कैसे लालू की राह पर उनके बेटे भी मीडिया को धमकाने और दबाने का काम करने लगे हैं। मीडिया पर आज हुए हमले को लेकर कई बड़े पत्रकारों ने इसकी खुलकर निंदा की है।

अर्नब गोसवामी:- वरिष्ठ पत्रकार अर्नब गोस्वामी ने कहा कि लालू के गुंडाराज को कौन नहीं जानता, ऐसे में गुंडे लालू के बेटे सभ्य इंसान कैसे हो सकते हैं? लालू हमेशा से लोकतंत्र की आवाज दवाने का काम करते आये हैं। ऐसे नेता देश की आमो हवा को दूषित करते हैं।

एनके सिंह:- वहीँ जाने माने पत्रकार एन के सिंह ने इसे लोकतंत्र के लिए घातक बताया हुआ है। सिंह ने कहा की लालू का इतिहास ही भ्रष्टाचार और घोटालों से भरा पड़ा है, ऐसे में उनसे सवाल पूछने वाले को दवाबे की कोशिश करना साफ दिखता है कि उनके खिलाफ खडा होना गुनाह है। देश में ऐसे नेता लोकतंत्र के लिए बड़ा खतरा हैं।

वहीँ मीडिया पर हुए हमले के बाद से सभी विपक्षी दलों ने इसकी घोर निंदा करते हुए कहा कि नीतीश कुमार और लालू की जोड़ी एकबार फिर से बिहार में जंगल राज लाने में कामयाब हो गयी।

 

loading...