Breaking News
  • बिहारः मुठभेड़ में खगड़िया के पसराहा थाना अध्यक्ष आशीष कुमार सिंह शहीद
  • J-K: पुलवामा में सुरक्षा बलों ने हिजबुल के एक आतंकी को मार गिराया
  • दिल्ली में आज पेट्रोल की कीमत 82.66 रुपए प्रति लीटर, डीजल 75.19 रुपए प्रति लीटर
  • J-K:स्थानीय निकाय चुनाव के लिए तीसरे चरण की वोटिंग जारी

बड़ी खबर: 2019 चुनाव में सीएम केजरीवाल करेंगे बीजेपी के लिए प्रचार!

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को बीजेपी और पीएम नरेंद्र मोदी का मुखर विरोधी कहा जाता है लेकिन अब सोमवार को अरविन्द केजरीवाल जे कहा कि वह आगामी 2019 के चुनाव में बीजेपी के लिए प्रचार प्रसार करेंगे। इसके लिए उन्होंने छोटी सी शर्त रखी है।

दरअसल केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार और बीजेपी के मुखर विरोधियों में शुमार दिल्ली के सीएम अरविन्द केजरीवाल ने बीजेपी को लेकर ऐसी बात बोली है जिसपर किसी को यकीन नहीं हो रहा है। दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने की मांग को लेकर विधानसभा के बुलाये गये विशेष सत्र में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि, 'अगर 2019 के आम चुनाव से पहले दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा मिल जाता है तो वह बीजेपी के लिए चुनाव प्रचार करेंगे और दिल्ली की जनता से बीजेपी के पक्ष में वोट करने की अपील करेंगे। सीएम अरविन्द केजरीवाल ने कहा कि पूर्ण राज्य का दर्जा दिलवाने केंद्र के हाथ है और केंद्र में बीजेपी की नरेंद्र मोदी सरकार है। ऐसे में बीजेपी और नरेंद्र मोदी सरकार को दिल्ली प्रदेश को पूर्ण राज्य का दर्जा  दिलवाने के लिए आगे आना चाहिए।

त्रिपुरा: इंसान ही नहीं चीटियों की भी घुसपैठ को पकड़ लेगी यह लेजर तकनीकी

अगर ऐसा होता है तो वह खुद बीजेपी के लिए प्रचार करेंगे। साथ ही सीएम केजरीवाल ने कहा कि अगर ऐसा नहीं होता है तो दिल्ली वासी अपने-अपने घर के बाहर 'बीजेपी दिल्ली छोड़ो' का बोर्ड लगाएंगे। केजरीवाल ने कहा अब फैसला बीजेपी को करना है कि वह क्या चाहती है। वहीँ सीएम अरविन्द केजरीवाल की यह कोई नई मांग नहीं है।

सावधान: कहीं आप भी तो नहीं हो रहे हैं इस ठगी का शिकार

केजरीवाल आन्दोलन के समय से ही दिल्ली को पूर्ण राज्य के दर्जे की मांग करते आये हैं। दरअसल केंद्र शासित राज्य होने के कारण दिल्ली सरकार और केंद्र सरकार में टकराव की स्थित बनी रहती है। जनता द्वारा चुनी गयी सरकार की में भी किसी तीसरे पक्ष का दखल होता है। जिसको लेकर पहले कई बार केजरीवाल बनाम राज्यपाल विवाद सामने आ चुका है।

यह भी देखें-

loading...